Latest

कानूनी प्राविधानों की सजग रिर्पोटिंग से मीडिया ला सकती है बड़ा बदलाव !

बच्चों के अधिकार संरक्षण पर कानूनी परिचर्चा Gorakhpur : रेलवे स्टेशन गोरखपुंर के प्लेटफार्म पर परिजनों से विछुड़े -भटके हुए बेसहारा बच्चों के साथ काम करने वाली संस्था
Read More

मासूमो की मौत के बाद कुछ सबक लेगा मेडिकल कालेज ?

गोरखपुर :  बीते पखवारे में मासुमों की मौत, माताओं के करुण क्रंदन तथा सिस्टम की जानलेवा,घोर लापरवाही से देश-विदेश में गोरखपुर शहर की क्रूर पहचान बनीं। यह पहचान
Read More

स्वच्छ भारत या एक शर्मिंदा मुल्क तैयार कर रही सरकार ?

New Delhi : राज्य सरकारें खुले में शौच को सामाजिक रूप से अस्वीकार्य बना रही हैं। हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ तथा कुछ अन्य राज्यों ने
Read More

पढ़ाई , प्रशिक्षण, रोजगार बन रहा मानव तस्करी का हथियार !

भारत में नेपाली युवक-युवतियों से ठगी ? भारत-नेपाल सम्बंध की बात जब भी होती है, दोनो देशों के बीच सामाजिक-सांस्कृतिक सम्बंधों का अटूट बंधन मिलता है। दोनों देश
Read More

बरिश से डूबनेवाले शहर की सुधि कब लोगे सीएम साहब !

  जल का कुप्रबंधन ! गोरखपुर !  उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री के संसदीय क्षेत्र में जल का कुप्रबंधन कई दशक से दुनिया के गये-गुजरे जल प्लावित क्षेत्रों से किसी
Read More

बच्चों को फिल्म का दर्शक और उपभोक्ता बनाने में सफल हुए रुपयावालें !

  यथार्थवादी प्रभाव के भीतर निर्मित क्लासिकल फिल्म  ‘बूट पॉलिश’ (1954) Mumbai: पश्चिमी सिनेमा में ‘न्यू वेब सिनेमा’ की जो धारा बही, उससे दुनिया भर की फिल्में प्रभावित
Read More

मानव तस्कर बाजार : कब तक ऑख मूंदकर काम चलायेंगे जिम्मेदार !

कुप्रथाओं का रंगरोगन :  भिन्न-भिन्न तरीके से स्त्री – बच्चों का शोषण ! Gorakhpur :   मानव क्या से क्या बन रहा है !  संसार के समस्त प्राणी
Read More

मुद्दा : भेड़ – भेड़िहार हासिये पर क्यों ?

खेती – किसानी का उद्धार  या तिरस्कार ! Gorakhpur : किसानों की बात आज हर राजनीतिक पार्टियाॅ कर रही हैं। उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव के केन्द्र में
Read More

किसान के गाढ़े धन का अपब्यय, रासायनिक उर्वरक का प्रयोग !

रासायनिक उर्वरक एवं कीटनाशक , भूमि की उर्वराशक्ति बढ़ाने वाले जीवाणु नष्ट कर रहे हैं ! Gorakhpur :  हमारे देश में सम्भावनाओं का असिमित भंण्डार बताने वालों की कमी
Read More

आध्यात्मिक होना मतलब अगरबत्ती जलाना नहीं , नदी के समान है साधना !

“शशिकांत सदैव साहित्य जगत के चमकते सितारे हैं। इनके बारे में लिखना सूरज को आईना दिखाने जैसा है। साहित्य के दर्जनों सम्मान प्राप्त ख्यातिलब्ध श्री सदैव जी के
Read More

अभद्र : भाषा की मर्यादा लांघते सभी दलों के नेतागण !

बयानों और शब्दों के विभाजनों के बनाए जा रहे दो कॉलम ! राष्ट्रीय पदों की गरिमा को बहुत सस्ता बनाते जा रहे नेतागण ! New Delhi : आजकल
Read More

खादी के धागे-धागे में, अपनेपन का अभिमान भरा…. !

…  अब राजनैतिक विश्लेषण और विभाजन का विषय बनती जा रही है खादी ! Vasco de Gama : ऐसा नहीं लगता कि देश में गांधी और खादी अंग्रेजी के
Read More

ग्राम-गणतंत्रों को विनष्ट करने वाली सत्ता देश का भला नहीं कर सकती !

 New Delhi : महात्मां कहलाना और महात्मा हो जाना , दोनों मे वही अंतर है जो आकाश व पाताल के बीच है। आज महात्मां कहलाने वाले  महंथ व
Read More
hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher