अंतरराष्ट्रीय बॉक्सिंग रैंकिंग में नंबर दो पर पहुॅचे शिवा

  New Delhi: भारत के युवा मुक्केबाज शिवा थापा अंतरराष्ट्रीय बॉक्सिंग रैंकिंग में नंबर दो पर पहुंच गए हैं।shiva-thapa-almaty 56 किलोग्राम भार वर्ग में वे अब नंबर वन भारतीय मुक्केबाज हैं। उनके 1550 पॉइंट्स हैं और आयरलैंड के माइकल कॉनलेन 2150 अंकों के साथ टॉप पर हैं। असम के गुहाटी मेें  कराटे प्रशिक्षक पिता के छ: बच्चों में सबसे छोटे 22 साल के शिवा ने पिछले महीने दोहा में खेली गई वर्ल्ड चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था। इसके चलते उन्हें पांच पायदान का फायदा हुआ और वे दूसरे नंबर पर आ गए। इसी प्रतियोगिता में आयरलैंड के माइकल कॉनलेन ने गोल्ड जीता था जिसके चलते वे टॉप पर हैं। शिवा तीसरे भारतीय हैं जिन्होंने वल्र्ड चैंपियनशिप में मेडल जीता है। नेपाली मूल के शिवा के पिता भारत को ही अपना घर मानते हैं।इसका प्रभाव बच्चोें पर भी है । माइक टायसन को आदर्श मानने वाले शिवा का सपना देश के लिये विश्व हैविवेट जीतना है।

बॉक्सिंग रैंकिंग में जो उपलब्धि हासिल कर गौरवान्वित किये
इससे पहले 2009 में विजेन्दर सिंह ने और विकास कृष्णन ने 2011 में कांस्य पदक जीता था।glabs विजेन्दर अब प्रोफेशनल बॉक्सिंग में है जबकि विकास को दोहा में क्वार्टर फाइनल में हार मिली थी। विकास 75 किग्रा मिडिलवेट वर्ग में छठे स्थान पर हैं। दोहा में क्वार्टर फाइनल तक पहुंचने वाले एक अन्य मुक्केबाज सतीश कुमार सुपर हैवीवेट (91 किग्रा से अधिक) भार वर्ग की रैंकिंग में सातवें नंबर पर हैं।एशियाई चैंपियनशिप के सिल्वर मेडलिस्ट एल देवेंद्रो सिंह 550 अंकों के साथ 49 किग्रा भार वर्ग में 13वें, सुमित सांगवान 81 किग्रा वर्ग में 450 अंकों के साथ 18वें जबकि मनोज कुमार 64 किग्रा में 18वें स्थान पर हैं।

 भारत में एकेडमी खोलना चाहते है   ब्रिटेन के स्टार मुक्केबाज आमिर खान
यह गजब का संयोग है कि  ब्रिटेन के स्टार मुक्केबाज आमिर खान भी इस समय भारत मे हैं और वह अगले साल भारत में प्रोफेशनल बॉक्सिंग के लिए एकेडमी खोलना चाहते है। boxserउन्होंने कहाकि भारत में मोहम्मद अली की क्षमता का मुक्केबाज तैयार करने की क्षमता है और अगर ऎसा नहीं होता है तो ये हैरानी की बात होगी। आामिर जैसे पारखी की नजर की भविष्यवाणी को शिवा ने सार्थक कर दिखाया जिससे भारतीय युवाओं में नया जोश भरेगा। उस पर उनकी एकेडमी लॉन्च करने की घोषणा व भारत की मेहमाननवाजी से व उनका प्रभावित होना खेल प्रेमियों के लिये शुभ संकेत हैं। आमिर यहां पर दक्षिण पूर्व एशिया में अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी लीग लॉन्च करने के लिए आए हुए थे।

भारत में मोहम्मद अली ढूढेंगे आमिर खान !
उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहाकि मेरे हिसाब से भारत मोहम्मद अली तैयार कर सकता है। मैं यह मान ही नहीं सकता कि इतनी जनसंख्या और प्रतिभा होने के बावजूद ऎसा नहीं हो। मैं पहली बार भारत आया हूं और मैंने कभी इस तरह के प्यार की उम्मीद नहीं की थी। यहां पर मैं कुछ शादियों(हरभजन सिंह की) में गया और अजमेर शरीफ भी गया यह अविस्मरणीय अनुभव है। तय है कि मैं दोबारा आऊंगा।Ameer khan boxser

पाकिस्तान में खोल रहे हैं पांच अकादमी !
भारत और पाकिस्तान के संबंधों पर आमिर खान ने कहाकि, खेल समस्याओं का समाधान हो सकता है। मैं पाकिस्तान में पांच अकादमियां खोल रहा हूं और वे लगभग 12 महीने में तैयार हो जाएंगी। इसके बाद भारत में अकादमी शुरू होगी। हो सकता है आप दोनों देशों के लड़कों को बॉक्सिंग रिंग में देखें। मुझे जिस तरह भी कहा जाएगा मैं मदद कर सकता हूं। उन्होंने कहाकि हर मजहब में अच्छे और बुरे लोग होते हैं लेकिन हमें अच्छे लोगों के नक्शेकदम पर ही चलना चाहिए। पाकिस्तान मूल के आमिर खान ब्रिटेन की ओर से मुक्केबाजी करते हैं। उन्होंने 17 साल की उम्र में एथेंस ओलंपिक में मुक्केबाजी में सिल्वर मेडल जीता था। ऎसा करने वाले वे ब्रिटेन के सबसे युवा बॉक्सर हैं

Vaidambh Media

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *