अभी कितनों को डाॅयन बताकर मारा जायेगा साहेब !

 आज भी जारी है  डायन प्रथा ;  कानून बस किताबों तक !
fear Bhubaneswar : महिला दिवस का मौक़ा हो या महिला सशक्तीकरण का कोई उत्सव.भारत में महिलाओं पर अत्याचार और उनके ख़िलाफ़ घिनौने अपराधों को लेकर अक्सर आवाज़ उठाई जाती है. लेकिन इन्हें पूरी तरह ख़त्म करने में शायद दशकों लगें.  रांची के एक गांव में डायन होने का आरोप लगाकर आज पांच महिलाओं की लाठी डंडे से पीटकर हत्‍या कर दी गई।

पुलिस के सामने गर्व से कह रहे हैं कि डायन को उन्होने ही मारा है !

policeदिल दहलाने वाली इस घटना का वीभत्‍स व खतरनाक पहलू यह कि हत्‍या करने वाले लोग पुलिस के सामने गर्व से कह रहे हैं कि हत्‍या उन्‍होंने ही की है। पुलिस के आने तक हत्‍यारे पांचों लाशों को घेरकर बैठे रहे। पांच महिलाओं की हत्‍या करने के बाद उन्‍हें कोई पछतावा नहीं है और उन लाेगों को अब भी यह लग रहा है कि उन्‍होंने सही किया है। झारखंड के अधिकांश गांवों में यही स्थिति है। झारखंड सरकार ने कानून बनाकर किसी को डायन कहने तक पर प्रतिबंध लगाया है लेकिन यह कानून बस किताबों तक ही है। डायन के नाम पर झारखंड के किसी न किसी जिले में प्रतिदिन हत्‍याएं हो रही हैं।

15 साल में 1300 महिलाओं की हत्‍या

jadoo tonaडायन के नाम पर 15 साल में 1300 महिलाओं की हत्‍या। डायन बताकर रांची के एक गांव में आज पांच महिलाओं की हत्‍या की खबर के विभिन्‍न पहलुओं पर चर्चा हो ही रही थी कि पलामू और गुमला जिले से डायन के नाम पर एक-एक और हत्‍या की खबर आ गई। अर्थात डायन बनाकर एक दिन में ही सात महिलाओं की हत्‍या।  बताया जा रहा है कि ऐसा पंचायत के सामने हुआ। एक ओझा के कहने पर इन पांचों महिलाओं को उनके घरों से घसीट कर सबके सामने लाया गया और सबके सामने उन्‍हें पूरी तरह से नंगा किया गया। इसके बाद लाठी, डंडे से पीटकर और पत्‍थरों से कूचकर उनकी हत्‍या कर दी गई।

अब भी यहाॅ लोग कुछ सीखने, समझने को तैयार नहीं !

primary_school_gortha_village_odisha_  21वीं सदी में आज की घटना सभ्‍य समाज के मुंह पर तमाचा है। यहां  डराने वाला पहलू यह कि अंधविश्‍वास में जकडे सुदूर क्षेत्र के यह लोग अब भी कुछ सीखने, समझने को तैयार नहीं हैं। गर्व से कह रहे हैं कि इन हत्‍याओं को उन्‍होंने अपने गांव के लोगों को बचाने के लिए किया है। गांव, समाज के इन स्‍वयंभू रखवालों को यदि काबू नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में स्थिति और भयावह होगी।

डायन के शक में एक ही परिवार के छह सदस्यों की हत्या 

ओडिशा में 274  को डायन बता हुई हत्या

ओडिशा के आदिवासी बहुल क्योंझर ज़िले के एक गांव में ‘जादू-टोना’ करने के संदेह में गांव वालों ने एक ही परिवार के छह सदस्यों की हत्या कर दी.इस घटना में गंभीर रूप से घायल परिवार के दो अन्य सदस्यों को सोमवार को अस्पताल पहुंचाया गया.सूचना मिलने के बाद बड़बिल के पुलिस अधिकारी अजय प्रताप स्वाईं सोमवार को घटनास्थल पर पहुंचे. घर के अंदर सभी के शव पड़े थे और सभी की गर्दन किसी धारदार हथियार से काट दी गई थी.स्वाईं ने बीबीसी को टेलीफोन पर बताया कि घायलों के बयान के आधार पर एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि बाकी अभियुक्तों की तलाश अभी जारी है. ओडिशा में हाल ही में हुए एक सर्वेक्षण के अनुसार पछले पांच वर्षों में राज्य में इस तरह की 274 हत्याएं हुई हैं.

उत्तरप्रदेश  में भी है ‘डायन’ फोबिया

उत्तरप्रदेश के सोनभद्र ज़िले में महिलाओं को डायन कहकर शारीरिक यातानाएं दिए जाने का एक मामला फिर सामने आया है.हैरत ये है कि प्रशासन इन महिलाओं के आरोपों को सामान्य क़रार दे रहा है और मामले को रफ़ा-दफ़ा करने में जुटा है.उत्तरप्रदेश के सोनभद्र ज़िले के जामपानी गांव में सात मार्च को दो महिलाओं को ‘डायन’ कहकर उनकी लाठी-डंडों से पिटाई की गई.

राष्ट्रीय चैंपियनशिप में  स्वर्ण जीतने वाली देबजानी को डायन बताकर पीटा गया

असम, 90 महिलाओं को डायन होने के शक़ में ज़िदा जलाया

tona totkaअसम की राष्ट्रीय स्तर की जैवलिन थ्रो की खिलाड़ी को डायन बताकर जादू-टोना के इल्ज़ाम पर पीटा गया है और यातनाएँ दी गई हैं.राष्ट्रीय चैंपियनशिप में जैवलिन थ्रो प्रतियोगिता में स्वर्ण जीतने वाली देबजानी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया है. उन्हें इस साल एशियन मास्टर्स में भारत का प्रतिनिधित्व करना है.देबजानी के साथ ये हरकत कथित तौर पर हफ़्ते की शुरुआत में हुई है.देबजानी एक ग़रीब खेतिहर मज़दूर है और कार्बी आंगलांग ज़िले के चेरेकाली गांव की निवासी है. देबजानी अपने पति के साथ दूसरे लोगों के खेतों में काम करती हैं और उनके तीन बच्चे हैं.भारत के कई इलाकों में आज भी डायन प्रथा जारी है.गांव में पिछले कुछ महीनों में तीन शराबियों की मौत हुई और एक ठुकराए हुए प्रेमी ने आत्महत्या कर ली थी. इन सबका इलज़ाम देबजानी पर लगाया दिया गया है.’

day14 अक्तूबर को देबजानी को गांव के सामुदायिक प्रार्थना हॉल में खींच कर ले जाया गया जहां उन पर डायन होने का इलज़ाम लगाया गया और ”सार्वजनिक सुनवाई” हुई.देबजानी कहती हैं, ”गांव में हुई मौतों के लिए मुझे ज़िम्मेदार ठहराया गया. मुझे मछली पकड़ने वाले जाल में बांध कर बुरी तरह पीटा गया.” देबजानी को इतनी यातना दी गई कि वे बेहोश हो गईं. उन्हें स्थानीय प्राइमरी स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां उन्हें अगले दिन होश आया.उन्होंने पत्रकारों को बताया, “इन मौतों की वजह ढूंढने की जगह गांव के कुछ बुज़ुर्गों को शक़ हुआ कि ये कोई डायन कर रही है. उन्होंने पूजा आयोजित की. पूजा के दौरान एक बुज़ुर्ग महिला, राधा लास्कर, ने मुझे डायन बताया और चिल्ला कर कहा कि मुझे सज़ा मिलनी चाहिए.”
असम में पिछले पांच साल में लगभग 90 महिलाओं को डायन होने के शक़ में ज़िदा जलाया गया या उनके सिर काट दिए गए थे. मारे गए लोगों में ज़्यादातर महिलाएं थीं.

Vaidambh Media

 

 


Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher