अमेरिकी रिपोर्टर ऐडम टेलर ने उड़ाया मोदी का मजाक

                              भारत के प्रधानमंत्री पर सेल्फी लेने का भूत सवार है!

learning selfiNew Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी प्राइम मिनिस्टर ली शियांग की सेल्फी को अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल ने इतिहास की सबसे शक्तिशाली सेल्फी बताया है, लेकिन वॉशिंगटन पोस्ट अखबार के रिपोर्टर ऐडम टेलर ने इस फोटो के लिए मोदी का मजाक उड़ाया है। टेलर ने अपने ब्लॉग का शीर्षक दिया है कि भारत के प्रधानमंत्री पर सेल्फी लेने का भूत सवार है।

 

     मजाक : प्रधानमंत्री मोदी, बीच में!

modi putlo me

एक दिन पहले ही वॉल स्ट्रीट जर्नल ने चीन के टेराकोटा म्यूजियम में दो पुतलों के साथ मोदी की एक तस्वीर छाप दी थी जिसके कैप्शन पर विवाद हो गया था। इस तस्वीर में मोदी दो पुतलों के बीच में खड़े थे और कैप्शन में लिखा गया था, ‘प्रधानमंत्री मोदी, बीच में।’ कई लोगों का कहना था कि जब बाकी दोनों पुतले हैं तो यह अलग से लिखने की क्या जरूरत है कि प्रधानमंत्री बीच में हैं।

                         एक अच्छी सेल्फी की कीमत जानते हैं नरेंद्र मोदी:टेलर

sonam modiशनिवार को अपने ब्लॉग में टेलर लिखते हैं कि नरेंद्र मोदी एक अच्छी सेल्फी की कीमत जानते हैं। मोदी ने शुक्रवार को चीन के प्रधानमंत्री के साथ अपनी सेल्फी ट्विटर पर शेयर की थी। टेलर लिखते हैं, ‘जैसा कि वॉल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा है कि यह तस्वीर इतिहास की सबसे शक्तिशाली सेल्फी हो सकती है लेकिन मोदी के लिए यह अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट की जाने वालीं सेल्फी की लंबी लाइन में एक और है।’

टेलर ने अपने ब्लॉग में मोदी की दसियों पुरानी सेल्फी दी हैं जो उन्होंने ट्विटर पर पोस्ट की थीं।

 

    सेल्फी   से सुधारी जा सकती है विवादित छवि !

china selfiवह लिखते हैं कि 2014 के चुनाव को सोशल मीडिया पर लड़ा गया भारत का पहला चुनाव कहा गया था और मोदी की टीम को यह बात समझ आ चुकी है कि 2002 के आरोपों और कट्टरपंथियों से नजदीकियों की वजह से बनी मोदी की विवादित छवि सेल्फी जैसे माध्यमों से सुधारी जा सकती है।

 

10 लाख के सूट का मुद्दा भी वहीं उठाया गया

modiअमेरिकी अखबार ‘द व़ॉल स्ट्रीट जर्नल’ में प्रकाशित यह तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है . वैसे, यह पहली बार नहीं है जब अमेरिकी मीडिया ने भारतीय प्रधानमंत्री पर इस तरह की खबरें छापी हों। मोदी के चर्चित 10 लाख के सूट का मुद्दा भी वहीं उठाया गया था और उनके 2002 दंगों के बारे में विवादों पर भी अक्सर अमेरिकी मीडिया खबरें छापता रहता है।

Vaidambh Media

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher