आधुनिकता की आड़ में साहुकारों के दरवाजे तक पहुॅचाने की कवायद

मित्रों ! मोदी सरकार ,राज्य में आप का स्वागत है। यहाॅ बकरी और शेर एक ही घाट पर पानी पीते है। आश्चर्य नही होगा जब कुछ दिन बाद ऐसे भी सम्बोधन देश के कुछ प्रमुख प्रवेश द्वारों पर लिखने का दुस्साहस कर दिया जाय।क्योंकि मोदी क्या हैं? कौन हैं? क्या बोलते हैं? आज तक आपने ये सवाल उनसे नहीं पूछा। भाजपा के गालबजाउ नेताओं ने जो उनकी शान में कसीदे पढ़ दिये, आप ने मान लिया। मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम के पवित्र भक्त हनुमान जब लंका में मेघनाद द्वारा गिरफ्तार कर दरबार में पेश किये गये तो सभासदों ने एक स्वर में कहा पूंछ में आग लगा दो ,अपने घर से लोगों ने राष्ट्रहित में वस्त्रदान किये तथा प्रजा तमाशाई बनकर यह सब देख रही थी; जैसे ही पूंछ में आग लगी और बंदर ने अपना आदती कौशल दिखाया,जनता और सभासदों का ज्ञानोदय हो गया। वे एक स्वर में चिल्ला पड़े- कहा था बंदर है इसकी पूंछ से मत खेलो अब भुगतो,लंका जल के राख हो गई।
सज्जनों ! जनता का भोलापन ही उसके शोषण का कारण होता है। राजनीति आपको भी समझनी होगी देश के बेहतर भविष्य के लिये, अपने आने वाली संतानों के सुरक्षित जीवन निर्वहन के लिये। झूठे लोगों के सत्य को जानने का प्रयास करें हमें राजनीति आ जायेगी। हमाम में सभी नंगे है फिर मोदी पर ही निशाना क्यों? यह सवाल मैने स्वयं से किया। उत्तर मिला -14करोड़ युवा मतदाताओं के लिये जिन्होने मोदी की विकासवादी अफवाह में पड़कर उन्हे करिश्माई/उद्धारक मान लिया है। युवाओं का विश्वास ,अंधविश्वास न बन जाये क्योकि युवा जुनूनी होता है। स्वयं को विचार सम्पन्न बताने वाली भारतीय जनता पार्टी का विचार मोदी हैं तो उनके विकास माडल को नजदीक से जानना होगा। असम व त्रिपुरा की लोक सभा सीटों पर कल मतदान हुआ। पहले चरण मे 86 प्रतिशत मतदान होना अच्छा संकेत है। बीजेपी का उफाॅन तो देखिये एक तरफ देश की 6 लोक सभा सीटों पर चुनाव हो रहे हैं इधर पार्टी का घोषणापत्र जारी हो रहा है।
घोषणा पत्र से एक चीज उठाते हैं। उनका 100 नये विकसित शहर बनाने का वादा है। जब शहर बसेगा ;तो उजड़ेगा कौन? आइये मोदी के गुजरात माडल से इस आधुनिकता को देखते हैं। यहाॅ कच्छ जिले के मुद्रा तालुका में 41 गाॅव की 3111 हेक्टेयर, भरूच जिले के ब्याग्रा तालुका में 1812 हेक्टेयर भूमि ,जामनगर जिले लालपुर तालुका में 5गाॅव की 4500 हेक्टेयर भ्ूमि, भावनगर जिले के मीठी विरदी के 7 गाॅव आधुनिकता की बली चढ़ गये। काॅग्रेस व बीजेपी यहाॅ साथ-साथ है। विश्व बैंक की गुलामी से इस देश को संचालित करने का प्रयास दोनो कर रहें हैं। देश में सबसे अधिक रोजगार प्रदान करने वाला क्षेत्र कृषि है,वह गाॅवों और किसानों पर निर्भर है। 60 करोड़ से अधिक लोग कृषि से जुड़े हैं। कुछ सामंतवादी राष्ट्र जिन्हें उपनिवेश की आदत रही है वे चाहते हैं कि भारत की 40 करोड़ जनता शहरों में आ जाय। उसकी जरूरतें शहरी हो जाॅय,जिससे उनके उत्पाद दुनियाॅ के सबसे बड़े बाजार में बिक सके। जमीन अद्भुत प्राकृतिक संसाधन है, यह उपजाऊ होने के साथ-साथ अपार खनिज सम्पदा अपने सीने मे छुपाये हुए है। सावधान! जब यहाॅ का मेहनतकस किसान निकम्मा हो जायेगा तो इस्ट इंडिया कम्पनी की तरह ये बगुला भगत राष्ट्र, किसानों की जमीनों पर अपना हक जमा लेंगे। फिर हम अपनी ही जमीन पर मजदूर और वे हमारे मालिक। कृषि विकास व लघु उद्योग पर अपनी ताकत हम क्योें नहीं खर्च करते ?
दूसरी महत्वपूर्ण घोषणा जिसका प्रत्येक से सरोकार है ,वह है हर गाॅव मे पाइप से पानी पहुॅचाने का वादा। इसे भी मोदी सरकार के माॅडल से देखते हैं। सरदार सरोवर परियोजना को गुजरात का सूखा व पेयजल संकट निवारक बताया जाता है। वर्ष 2002 से अब तक कच्छ को सूखा से निजात नहीे मिली, परियोजना की नहरें निर्माणाधीन थी, अब अधर में है। 4लाख हेक्टेयर सिंचित अन्न उपजाऊ क्षेत्र का पानीं अब औद्योगिक कम्पनियोें को जाता है। यानि प्रस्तावित क्षेत्र जिसे पानी की सबसे अधिक आवश्यकता है ,किसान केा प्यासा रखकर उनके हिस्से का पानी, 35प्रतिशत उद्यमियों के लिये आरक्षित सा कर देना, क्या देश को यह माॅडल पसंद आयेगा?
मित्रों ! आज एक बार फिर भारतीयता को ,आधुनिकता की आड़ में साहुकारों के पास गिरवी रखने के लिये तैयार किया जा रहा है, सतर्क रहें साहुकार चाहे देशी हो या विदेशी, उसकी एक ही प्रवृति होती है ’अपना खजाना भरते जाना’। फिर वक्त है ,उठो ! जागो ! समझो! समझाओ ! विनाश रोको,देश बचाओ।
जय हिंद।

धनंजय ’बृज’

Previous Post
Next Post
No Comments
hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher