एक यशोधरा , एक जाशोदाबेन !

धरती के सबसे कामयाब गुरु रहे बुद्ध !
Sarnaath :  बुद्ध ने आठ सालों तक भिक्षुक – जीवन जिया, जिसकी शुरुआत उन्होंने महल से भाग कर की थी। budhhaबुद्धत्व मिलने के बाद एक दिन वे अपने महल पहुंचे…बुद्ध आध्यात्मिक लहर हैं , धरती के सबसे कामयाब गुरु ; उनके जीवन काल में ही उनके चालीस हजार बौद्ध भिक्षु थे .जब उन्हें पूर्ण ज्ञान प्राप्त हुआ तो उन्हें अपना एक महत्वपूर्ण दायित्व याद आया जो उन्हें पूरा करना था। जब उन्होंने महल छोड़ा था, तो उनका पुत्र एक शिशु ही था और उनकी पत्नी एक युवती ।

चोर की तरह घर छोडक़र भाग गए, आप मर्द हैं ?
buddha1यशोधरा को जैसे ही पता चला कि वह आने वाले हैं, वह गुस्से से पागल हो गईं। वह उन्हें किसी तरह बख्शना नहीं चाहती थीं। गुस्से से उबल पड़ीं और बोलीं, ‘आप एक चोर की तरह घर छोडक़र भाग गए, आप तो एक मर्द भी नहीं हैं। आपके दिव्यता की खोज का सवाल कहां उठता है ?
यशोधरा ने बुद्ध को क्षमा कर दिया !
आप शाही परिवार में जन्मे थे,आपके अंदर इतना साहस होना चाहिए था कि मेरा सामना करते और मुझसे लड़ते फिर अपनी मनमर्जी करते | आठ साल के बच्चे को बुद्ध के सामने रखते हुए यशोधरा ने कहा – ‘‘ इसके लिए आपकी क्या विरासत है ? आप और आपकी आध्यात्मिक बकवास ? आप इसे क्या देकर जाएंगे ? ”बुद्ध मौन रहे और थोड़ी देर में बोले ” मैं तुमसे और अपने बेटे से क्षमा मांगने . आया हूँ ” और यह कहते हुए अपना भिक्षा पात्र अपने बेटे को सौंप दिया। यशोधरा ने बुद्ध को क्षमा कर दिया !

क्या मोदी ; गाॅधीजी -महात्माबुद्ध के इर्द-गिर्द भी हैं !
भरत ऋिषि मुनियों की धरती हैं यहाॅ राजा तख्त का त्याग करते हुए राज्य करता रहा है। yasodaben सिद्धार्थ से प्रभावित हो महात्मा गाॅधी ने देश के गरीबों का वस्त्र देख, खुद संकल्प लिया कि जब तक भारत का तन नही ढक जाता, मैं वस्त्र नहीं पहन सकता; क्योंकि देश की जनता ने मुझपर विश्वास किया है और मेरा धर्म है उस पर खरा उतरना! वर्तमान परिदृष्य में जब देश के प्रधानमंत्री भाई के पक्ष में छोटे भाई प्रहलाद मोदी ये सवाल करते है तो जवाब तो बनता है ना !

यशोधरा को पति से जवाब मिला तो यशोदाबेन को क्यो नहीं ?

‘‘भगवान बुद्ध ने भी शादी की थी।  अपनी शादी के बाद, बुद्ध ने अपनी पत्नी और बच्चे को छोड़ दिया, yasoda उस समय किसी ने उनसे नहीं पूछा कि उन्होंने अपना परिवार क्यों छोड़ा और अपनी पत्नी को अधिकार क्यों नहीं दिये। मोदी से ये सवाल क्यों पूछे जा रहे हैं।’’ झूठ का अम्बार सजाते इस परिवार को मीडिया आदर्श की तरह उपयोग करती है जबकि सच तो ये है कि परिवार में किसी का किसी से प्रेम धागा जुड़ा ही नही है। हाॅ गौतम बुद्ध की पत्नी ने सवाल किया और 40 हजार सदस्यों के सामने बुद्ध ने पत्नी व बच्चे से क्षमा माॅगी ; उन्हे कारण बताये ! पत्नी के क्षमा कर देने के बाद ही वह स्वयं को बुद्ध मान पाये ! यहाॅ तो पीएम साहब की सरकार ने उनकी पत्नी की आजादी पर पहरा बिठा दिया है पूछने पर बोलते हैं प्रोटोकाल है !

‘लो जी आ गई मोदी की बारात ! ‘

ये कैसी इमानदारी व प्रोटोकाल है कि देश के प्रधानमंत्रीकी पत्नी को दौड़ कर बस पकड़ना पड़ता है और सुरक्षागार्ड इनोवा में पीछे लबे रहते हैं ,पड़ोसी तंज कसते हैंyasodaben1 ‘लो जी आ गई मोदी की बारात ! ‘ आरटीआई से जवाब नही दिये जाते! खुद प्रधानमंत्री विदेश भ्रमण से नही अघा रहे पर पत्नी का आवेदन ,पासपोर्ट कार्यालय वापस कर देता है कि पति का साक्ष्य लगाओ ! उसे भारत के निर्वाचन कार्यालय का शपथपत्र जिस पर आज देश के प्रधानमंत्री देश का नेतृत्व कर रहे हैं स्वीकार्य नहीं ! यशोधरा को अपने फकीर पति से जवाब मिल गया, उसने क्षमा भी कर दिया किन्तु गुजरात की यशोदाबेन के पास सिर्फ सवाल है। जिससे जवाब पाना है वह बहुत बड़ा आदमी है इंतजार उन्हे आज भी है पर…!
Vaidambh Media!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *