किसके, किस , कृत्य से शर्मशार हो रहा देश ?

सरकार करे विरोध दर्ज कराने  वालों से बात !

New Delhi :   देश के माहौल को खुशनुमा बताने वाली केंन्द्र सरकार,  डिजिट -इण्डिया के ताने -बाने में इस कदर उलझी दिख रही है कि उसे सामाजिक विविधता में सुसुप्त भूचाल का अंदाजा ही नही हो रहा।sahitya-akademi-team भाजपा के पार्टी के प्रवक्ता , वर्तमान सरकार के प्रवक्ता बनकर किसी भी सवाल का जवाब दे रहे है। केन्द्र सरकार का सांस्कृतिक मंत्रालय सबसे जादा निरस रहा ,  जहाॅ से रस ,छंद ,अलंकार निकलने चाहिए। दुर्भाग्यपूर्ण है ! जिस देश में कला, साहित्य, संस्कृति वोले लोग (चाहे वह विरोधी हो या समर्थक भयभीत हों)  क्रुद्ध हो  उस सत्ता को हम क्या कहें ? बहुत से साहित्य के वीर चुनौती दे रहे हैं कि फलां वाकये पर आपका दिल क्यो नहीं पसीजा ;  लिहाजा आप नकली हो ,  आप राजनीति कर रहे हो आज ही क्यो वापस किये  ? wirters-return-awards अरे भाई ! आज जब कोई विरोध दर्ज करा रहा है तो उसकी बात सुनने में जाता क्या है ? साहित्यकारों ने जो कारण गिनाये हैं वह ठीक से पढ़े जाने चाहिये! किसी की प्रशंसा में अगर किसी शायर या कवि ने कोई ग्रंथ लिखा तो जरुरी नहीं कि वह आज भी उसका मानसिक गुलाम हो ! हाॅ ,  विरोध करने वाले जिस तरह आरोप मढ़ रहे हैं उसमें इसकी झलक स्पष्ट देखी जा सकती है। किसी लेखक कवि कलाकार का सम्मान लौटाना राजनीति है  ?  तब तो इस तरह के पुरस्कार देना किसी भी समझदार सरकार को बंद कर देना चाहिए। इतने वर्षों में बहुत सारी घटनायें हुई सही है पर अब इस तरह की घटनायें होती रहनी चाहिए  क्योंकि इसके पहले विरोध नही किया !  क्या हम ये देशहित में अच्छा कर रहे हैं  ? आरोप -प्रत्यारोप से विकासवादी, समन्वयवादी ब्यवस्था कायम होगी?sahitya-akademi-award-presented क्या शपथ ग्रहण के दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी द्वारा कहा गया  वह शब्द कि ,      ” हम किसी भी द्वेष- भाव से देश के किसी नागरिक को नुकशान नहीं पहुॅचने देंगे! ”   इस बात का सम्मान किसी पार्टी नेता अथवा मंत्री द्वारा किया गया ! यदि नहीं , तो किसने अधिकार दिया कि देश के साहित्य व कला जगत के लोगों को गद्दार या किसी पार्टी की भक्ति करने वाला बताया जाय !

आज कम्प्यूटरीकृत केन्द्र सरकार को ध्यान देना होगा कि किस तरह सोशल मीडिया पर देश के युवाओं को प्रभावित किया जा रहा है।Anand_Patwardhan_यहाॅ तो ऐसा लगता है कि पिछली घटनाओं जिसको ये लोग आधर बना रहे है उनके लोगो ने जो किया वह उचित था मसलन गोधरा,सिक्ख समुदाय पर हमले इत्यादि ! सरकार जिस तरह विरोध का जवाब विरोध पर उतर आई है उससे समस्या काबू में होना मुश्किल है यही कारण है कि अब विरोध अन्य घरों से भी बाहर निकल रहा है।

  वैज्ञानिक पीएम भार्गव ने पद्म भूषण लौटाने का  किया ऐलान  !

साहित्यकारों और फिल्मकारों के पुरस्कार लौटाए जाने के सिलसिले के बीच अब एक वैज्ञानिक ने पद्म भूषण लौटाने का ऐलान किया है ।pmbhargava_scientist वैज्ञानिक पीएम भार्गव का कहना है कि तर्कवाद, विचार और विज्ञान पर हमले के विरोध में मैं अवार्ड वापस कर रहा हूं । सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायलॉजी (सीसीएमबी) के संस्थापक भार्गव ने कहा कि मैं मोदी सरकार में धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की सांप्रदायिक और अलगाववादी तत्वों की कोशिशों को प्रश्रय देने के विरोध में मैं इस्तीफा दे रहा हूं ।gyani zail singh

(प्रतीक) पद्वमभूषण; ज्ञानी जैंल सिंह राष्टपति द्वारा दिया गया था।

पी एम भार्गव ने कहा कि इस वक्त हमारे देश में जो व्यवस्था है, बीजेपी की गवर्नमेंट जो RSS कहता है, वही करती है । आरएसएस हिंदुत्व की लाइन पर चल रहा है . भार्गव ने कहा कि अवार्ड, इसीलिए मैंने अवार्ड वापस करने का फैसला किया है । 1996 में मुझे तत्कालीन राष्टपति  जैल सिंह से अवार्ड मिला था। रिटर्न करने से देश की छवि उतनी नहीं ख़राब होती जितनी और चीजों से होती है । क्या जो भागवत साहब कहते हैं उससे देश की छवि नहीं ख़राब होती ? उन्होंने अभी कुछ दिन पहले ही कहा था कि शादी एक कॉन्ट्रैक्ट होती है जिसमें महिला घर संभालने का काम करती है । क्या महिलाओं का सिर्फ यही काम है ?

Vaidambh Media

 

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher