केंद्र सरकार के संस्थान की डिग्री को यूजीसी मान्यता नहीं , क्यों?

 फर्जीवाड़ा …! 

New Delhi:  पढ़ाई में फर्जीवाड़ा,नौकरी में फर्जीवाड़ा…! कोई भी देश अपने fddiयुवाओं के प्रतिभा से पहचाना जाता है। यहाॅ हाल ये है कि सरकार के भीतर सरकार ; व विभाग के भीतर विभाग ! उनका  संचालन  मनमाने तरीके से हो रहा है और किसी को इसकी परवाह नहीं । हजारो लाखों रुपये फॅूक ; बेचारा पढ़ लिख कर बेकार डिग्री धारक युवा,  कुछ दिन इधर- उधर धरना प्रदर्शन करते हुए थक हार कर बेकार- बेराजगार एक भीड़ वाली आबादी का हिस्सा बनने को मजबूर हो जाता है। ये बेलगाम संस्थान भावी पीढ़ी को क्या बनाना चाहते हैं ? और कब तक ठगाते रहेगें युवा ?  भविष्य- पैसा -समय -प्रतिष्ठा तीनों दाॅव पर है। सरकार व उसके निगरानी तंत्र कहाॅ सोये हैं उनकी क्या जिम्मेदारी है?

   भगदड़ वाली भीड़ क्यों बन रहा युवा  ?  

lathi charj सरकारी नीतियों को बनाने वाले पता नहीं कैसे सोचते-करते हैं। अकसर यूजीसी की सूची निकलती है, जिसके आधार पर देश में चल रहे फर्जी विश्वविद्यालयों या दूसरे शिक्षा के केंद्रों के बारे में लोगों को पता चलता है। लेकिन, सेना की भर्ती की तरह भगदड़ वाली भीड़ इस देश में शिक्षा के लिए भी नियति बन गई है। छात्र पढ़ना चाहते हैं। लेकिन, उनकी मजबूरी ये कि जिस संस्थान में वो दाखिला ले रहे हैं। वो संस्थान सरकार, यूजीसी के मानकों पर सही भी है या नहीं। इसका अंदाजा पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के बाद और कभी-कभी तो पाठ्यक्रम पूरा कर लेने के कई साल बाद पता लगता है। फर्जी डिग्री देने वाले निजी कॉलेजों, विश्वविद्यालयों को लानत भी हम भेजते रहते हैं। जबकि, सच्चाई ये है कि फर्जी कुछ भी है, तो उसके लिए सिर्फ और सिर्फ जिम्मेदार सरकार  है।

 केंद्र सरकार का भी एक फर्जी डिग्री देने वाला संस्थान !

वाणिज्य मंत्रालय की डिग्री को मान्यता नही देता मानव संसाधन विभाग

fddi student

संकट में 3000 से अधिक FDDI छात्रों का भविष्य

अब एक और अनोखा उदाहरण देखिए। केंद्र सरकार के ही अंतर्गत चल रहे एक संस्थान की डिग्री को केंद्र सरकार के मानव संसाधन विभाग के अंतर्गत आने वाला यूजीसी यानी यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन मान्यता ही नहीं देता है। दिल्ली से सटे नोएडा में वाणिज्य मंत्रालय FDDI संस्थान चलाता है। इस संस्थान से रिटेल, फुटवेयर और ऐसे कई एमबीए की डिग्री दी जाती है। अब जब वाणिज्य मंत्रालय का ही संस्थान है।

 यूं ही चलता रहेगा फर्जी डिग्री देने वाला संस्थान ?

FARJEE    मंत्रालय का ही एक अधिकारी यहां का मुखिया होता है, तो भला किसे संदेह हो सकता है कि इस संस्थान की डिग्री भी निजी कॉलेजों, विश्वविद्यालयों की तरह फर्जी हो सकती है। लेकिन, सच्चाई यही है कि केंद्र सरकार के संस्थान एफडीडीआई की डिग्री को यूजीसी मान्यता ही नहीं देता है। इसके लिए यहां के छात्रों ने पढ़ाई छोड़कर पहले संस्थान में ही आंदोलन चलाया। फिर देश में आंदोलन के लिए तय स्थान जंतर मंतर तक गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमन और मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी क्या इस विसंगति को दूर करेंगे। या फर्जी निजी विश्वविद्यालय, कॉलेज की तरह केंद्र सरकार का भी एक फर्जी डिग्री देने वाला संस्थान यूं ही चलता रहेगा।

Vaidambh Media

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *