बिहार में समाजवादी राजनीति के तिलिस्म का कारवां !

भव्य समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ

Patna : बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में नई सरकार ने शुक्रवार को सत्ता संभाल ली।  bihar 2015राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने उन्हें पटना के गांधी मैदान में एक भव्य समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। कुमार के साथ-साथ 28 मंत्रियों ने भी शुक्रवार को शपथ ली। शपथ ग्रहण के कुछ ही देर के भीतर कुमार ने अपने मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा भी कर दिया। राष्टï्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी यादव को सरकार में उप-मुख्यमंत्री बनाया गया है। साथ ही, उन्हें पथ निर्माण और भवन निर्माण जैसे अहम विभागों की जिम्मेदारी भी मिली है। वहीं, प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव को स्वास्थ्य जैसा महत्त्वपूर्ण विभाग मिला है।
वित्त विभाग की जिम्मेदारी अब्दुल बारी सिद्दीकी को !
वहीं, राजद के दिग्गज नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी को वित्त विभाग की जिम्मेदारी मिली है। इसके अलावा, कृषि विभाग की जिम्मेदारी भी राजद के राम विचार राय को मिली है।Nitish-Tejaswi-Tej-Pratap-Abdul-Bari वहीं, जद (यू) के पाले में भी 12 मंत्री पद आए हैं। इसमें वरिष्ठ नेता विजेंद्र यादव को फिर से ऊर्जा विभाग मिला है, जबकि कुमार के करीबी माने जाने वाले राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह को जल संसाधन जैसे अहम विभाग की जिम्मेदारी मिली है। वहीं, कांग्रेस के हिस्से में 4 मंत्री पद आए हैं, जिसमें सबसे ऊपर राज्य अध्यक्ष अशोक चौधरी का नाम है। उन्हें शिक्षा और सूचना प्रौद्योगिकी विभागों की जिम्मेदारी मिली है। हालांकि, कुमार ने सबसे अहम माने जाने वाले गृह, सामान्य प्रशासन और सूचना एवं जनसंपर्क विभाग को अपने पास ही रखा है।abdul bari siddiki इसके अलावा, पिछली सरकार में सहकारित विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे जय कुमार सिंह को पदोन्नित देते हुए कुमार ने उद्योग व विज्ञान तकनीक विभागों की जिम्मेदारी दी है। इसके अलावा, नीतीश के करीबी माने जाने वाले श्रवण कुमार की भी तरक्की हुई है। वह बीती सरकार में ग्रामीण कार्य अभियंत्रण विभाग देख रहे थे, जबकि उन्हें इस बार ग्रामीण विकास जैसा अहम विभाग मिला है। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा प्रसाद राय के बेटे और राजद के पुराने नेता चंद्रिका राय को परिवहन विभाग मिला है, जबकि राजद सांसद जयप्रकाश नारायण यादव के छोटे भाई विजय प्रकाश को श्रम संसाधन विभाग मिला है।
विपक्षी दलों की एकता भी साफ नजर आई !
शपथ ग्रहण के कार्यक्रम में केंद्र में सत्तारुढ़ भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों की एकता भी साफ नजर आई।  gathbandhan इस कार्यक्रम में लालू प्रसाद पूरे जोश से कार्यक्रम में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा, लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े, राकांपा प्रमुख शरद पवार, नैशनल कांफ्रेंस अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला और उनके बेटे व जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का स्वागत करते नजर आए। साथ ही, इस मौके पर कांग्रेस सहित विपक्ष शासित नौ राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी हिस्सा लिया। हालांकि, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव इस कार्यक्रम में नजर नहीं आए।

नए मंत्रियों की फिसली जुबान, दोबारा ली शपथ

बिहार में शुक्रवार को नई सरकार में बतौर मंत्री शपथ लेते वक्त लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव और राजद विधायक राम विचार राय की जुबान फिसल गई। laloo ke do lal इस बारे में राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने जब इन दोनों को उनकी गलती का अहसास कराया, तो उन्हें दोबारा शपथ लेनी पड़ी। दरअसल, गोपनीयता की शपथ लेते वक्त तेज प्रताप ने ‘अपेक्षित’ शब्द को ‘उपेक्षित’ पढ़ा। इस पर राज्यपाल ने उन्हें टोका और कहा कि, ‘उपेक्षित नहीं, अपेक्षित होता है। आप फिर से शपथ लीजिए।’ इस पर युवा राजद नेता ने कहा, ‘हमसे गलती हो गई। हमें माफ कीजिए।’ इसके बाद उन्होंने फिर से शपथ ली। वहीं, राम विचार राय को भी राज्यपाल ने इसी बात के लिए टोका था। उन्होंने भी फिर से शपथ ली।

Vaidambh Media

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *