जनहित मे टूटनी ही चाहिए दलगत भावनाएँ : महापौर

ब्यूरो कार्यालय, गोरखपुर । समाजसेवा करते हुए राजनीति में एक सुदृढ़ मकाम हासिल कर,अपने कर्तब्यपथ पर आलोचनाओं की परवाह किये बिना सजग कदमताल मिलाने वाली, गोरखपुर नगर निगम की महापौर डा0 सत्या पाण्डेय से उनके काम-काज के सम्बंध में खुलकर बात-चीत की वैदम्भ.इन सम्वाद्दाता ए0के0 गम्भीर नें।

मेयर बनने के बाद आपके समक्ष क्या चुनौतियाॅ थी?

जब मैने शपथ लिया उस समय नगर-निगम सदन मे बहुमत भी नही था।परन्तु सभी पार्शदगण ने हमारा सहयोग किया। मैने महानगर में राजनीति ,समाजसेवा करते हुए की है। मुझे टूटी सड़कों व जल निकास तथा शुद्ध पेय जल की समस्या का वास्तविक जानकारी थी। मैने तत्काल राहत के लिये सड़कों की मरम्मत, पथ प्रकाश व जल निकासी का कार्य प्रारम्भ करवाया जो काफी चुनौतीपूर्ण था, क्योंकि हमें नगर निगम 40 लाख के घाटे में मिला हुआ था। अब तो बहुत ज्यादा सुधार हो गया है।

चुनौतीपूर्ण माहौल मे इतना काम! तो नगर निगम सदन मे पास योजनाओं पर धीमी गति अथवा  शिथिलता का क्या कारण है? मसलन गोलघर को हजरतगंज बनाये जाने,निगम के लिये सचिवालय निर्माण व परिसर के पोखरे का आधुनिकीकरण!

अथाॅरिटी नगर आयुक्त हैं,जिन्हें इन कार्यो को क्रियान्वित करना है।नगर-निगम में अघिकारियों की कमी है जो धीमी गति का कारण हो सकता है। बोर्ड मे पास कुछ योजनाओं पर अधिकारियों की लापरवाही सामने आयी है। फिलहाल अतिशिघ्र काम शुरु हो जायेंगे।

राज्य सरकार से निकटता का आरोप भाजपा पार्शद लगाते रहे है, विकास कार्य के लिये धनार्जन पर अपने ही लोगों के विरोध को क्या कहेंगी?

मुझे जनता ने नगर विकास के लिये चुना है। हमे इससे कोई फर्क्र नही पड़ता कि प्रदेशमें किसकी सरकार है। सेवाकर्म में हाथ पर हाथ धर कर बैठे तो नही रह सकते ना। आगे बढ़कर मेरे प्रयास से नगरवासियों को प्रदेश सरकार से अपना अपेक्षित बजट मिलता है तो इस आलोचना की मुझे परवाह नहीं। नगर निगम का बजट रिकार्ड 2 अरब हो गया। केन्द्र में जब यूपीए सरकार थी तब पेयजल ब्यवस्था में अपेक्षित सहयोग हमे मिला। सरकार किसी भी दल की हो जनहित प्रोेथमिक है। रही बात विरोध की तो यह मिथ्या प्रचार है। सभी पार्शद विकास के पक्षधर हैं और हम मिल-जुल कर कार्य करते हैं।

आप जिस विकास की बात कर रहीं हैं उसका स्वरुप कैसा है कि अपने ही पार्टी की महापैार के विरुद्ध पार्टी के विधायक व सांसद धरने पर बैठ जातें हैं?

इसका जवाब वे ही बेहतर दे सकते हैं। मै भाजपा की मात्र कार्यकर्ता हूॅ। वे हमारे मार्गदर्षक हैं त्रुटियों पर जनहित का साथ देना प्राथमिकता है। 40 वर्श का राजनीतिक अनुभव उन लोगों के पास है, मैं इसे विरोध के रुप में तो कत्तई नहीं देखती।

महानगर में अनियोजित बसाव बढ़ रहा है। इससे नगर प्रबंधन प्रभावित हो रहा है। कैसे होगा सुदृढ़ विकास?

महानगर को जन्म देते समय 24 गाॅवों को अध्यापित किया गया। इन क्षेत्रों में शहरी विकस के लिये जो सुविधायें मुहैया की जानी थी उसकी जिम्मेदारी गोरखपुर विकास प्राधिकरण को दी गयी। दुर्भाग्यवश जीडीए इस काम मे पूरी तरह फेल रहा। परिणाम यह है कि पूरा महानगर उस अब्यवस्था के कारण आज भी कश्ट झेल रहा है। शहरी टैक्स वसूलने का कार्य नगर निगम के पास है। निगम का प्रमुख कार्य है पथ प्रकाश,सड़क निर्माण व मरम्मत,जल निकास, षुद्ध पेयजल आपूर्ति। शहर में मकान का नकसा पास करनें कालोनियों के निर्माण की जिम्मेदारी अभी भी प्राधिकरण की है। अनियोजित विकास से उपजी समस्या का एक मात्र कारण गोरखपुर विकास प्राधिकरण है।

जीडीए व नगर निगम के बीच सामंजस्य बिठाकर काम क्यों नही किया जाता?

यह एक संवैधानिक प्रक्रिया है। 74वाॅ संषोधन अति आवष्यक है। इससे तीन विभाग एक साथ मिलकर काम कर सकेंगे प्राधिकरण,नगर निगम व ट्रैफिक। इससे शहरी जनता को बहुत राहत मिलेगी। विभागों को नीति बनाने में सरलता होगी तथा जनहित में समन्वित विकास को सम्बल मिलेगा।

महानगरों की काॅमन समस्या है कचरा। कूड़े से गढ्ढा पाटा जा रहा है,निस्तारण का कोई तरीका अब तक सफल नहीं दिख रहा क्या कदम उठायेंगी?

नगर निगम के साथ कचरा प्रबंधन पर काम करने वाली कम्पनी भाग गई। उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है। दूसरी कम्पनी से बात हो रही है जल्दी ही कचरा प्रबंधन ब्यवस्थित हो जायेगा। जलस्रोतों के ईद-र्गिद कूड़ा निस्तारण पर हमे ब्यक्तिगत बहुत दुःख है,प्रदूशण मुक्त गोरखपुर के लिये हम निरंतर प्रयासरत हैं।

एक नेचुरोपैथिस्ट व जन सरोकार वाली ब्यक्तित्व आज इस शहर की मेयर हैं ,हम क्या उम्मीद करे?

मै प्रकृतिप्रेमी हूॅ। महानगर के पार्कों में हरियाली व स्वच्छता के लिये काम जारी है। जनता को भी कुछ जिम्मेदारी देकर शहर के विकास में आगे लाने का प्रयास है जैसे पार्कों के रखरखाव के लिये सिविल सोसाइटियां को जिम्मेदारी देकर सुरक्षित व सुन्दर, हरा-भरा गोरखपुर बनाया जाय। एक स्पेशल पार्क बनाने के लिये रिलायंस कम्पनी से बातचीत चल रही है परिणाम अच्छे मिलेंगे। समाज के हर ब्यक्ति तक पहुॅचकर उसके दुःख का निवारण ही सच्चा जन सरोकार है। समाज के हर वर्ग के चेहरे पर मुस्कान दिखे यही प्रयास सत्त चलता रहेगा।

बौद्व परिपथ का प्रवेश द्वार है गोरखपुर, उस लिहाज से पर्यटको को रोकने की कोई ब्यवस्था नगर निगम के पास नही है इस पर कभी कोई प्लानिंग भी नही दिखी?

गोरखपुर महानगर में पर्यटन की अपार सम्भावनाएं हैं। रामगढ़ताल परियोजना पूरा हो जाने पर हम पर्यटको को यहाॅ रोक सकेंगे। स्मार्ट सीटी के निर्माण की बात हुई है। विदेषी सैलानियों के प्रवास के लिये शासन स्तर से निरन्तर बात-चीत जारी है। हर सम्भव ऊर्जावान प्रयास किया जायेगा।

यहाॅ विरोधभाश है,एक तरफ स्मार्ट सीटी दूसरी तरफ अनियोजित विकास से जूझते मुहल्ले ,किसे प्राथमिकता देंगी?

जिसकी तैयारी पूर्व नियोजित न हो उसमे हमेशा अढ़चन आती है, अनियोजित क्षेत्रों का विकास हमारी प्राथमिकता में हैं लेकिन आगे जो कार्य करने हैं उसके लिए जोश और उत्साह मे कमी नही दिखनी चाहिए। फिलहाल हर क्षेत्र में नगर-निगम उत्कृश्ठ कार्य करने का प्रयास कर रहा है।

महानगर का सिविल सेंस कैसा पाती हैं?

हमारे शहर में जागरुकता का अभाव है। सिविल सेंस जगाने का प्रयास सभी बुद्धिजीवी को करना चाहिए। नागरिको को स्वयं जागना होगा ,यदि सोये रहे तो बहुत देर हो जायेगी। भूजल प्रयोग, शुद्ध पेयजल,कचरा निस्तारण पर जनता की जागरुकता ही विकास का सही आयाम साबित हो सकेगी।

नगर-निगम को लेकर कोई ड्रीम?

जनता को मुझसे बहुत अपेक्षायें हैं। मैं भी चाहती हूॅ कि महानगर को विकास में अलग पहचाॅन दिला पाऊँ। गोरखपुर का अपना समृद्ध इतिहास है। इसके इतिहास व ऐतिहासिक महत्व के चिन्हों ,स्मारकों को संरक्षित कर उन्हे दर्षनीय बनवाने मे मदद कर सकूॅ। साथ ही शहर को बुनियादी सुविधा सम्पन्न बनाना ड्रीम है।

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher