देश में बाल अत्याचार बेकाबू ; करोड़ों खर्च कर रही सरकार !

करोड़ों की रकम भी बट्टे खाते में !

New Delhi : केंद्र सरकार द्वारा भले ही देश में बाल अत्याचारों पर काबू पाने के लिए सख्त कानून और तमाम तरह के दावे किए जाते रहे हों, लेकिन पिछले तीन साल में बाल अत्याचारों के मामले कम होने के बजाय दो गुना से भी ज्यादा मामले बढ़े हैं। bal utpidanमसलन सरकार की रोकथाम और ऐसे अपराधों पर अंकुश लगाने की दिशा में जागरूकता शिविर और अन्य सभी अभियान धरे के धरे रह गये हैं। केंद्र सरकार ने गुरुवार को बाल अत्याचारों में हो रही निरंतर बढ़ोतरी को स्वीकार करते हुए आंकड़े पेश किये हैं। गृह मंत्रालय के जारी इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि बाल अत्याचार को रोकने के लिये देश में लागू सख्त कानून और देशभर में चलाए जा रहे विभिन्न अभियानों का प्रभाव पूरी तरह से नगण्य है। मसलन इन अभियानों में खर्च की जा रही करोड़ों की रकम भी बट्टे खाते में जा रही है।

देंश में बढ़ रही है बच्चों पर अत्याचार की घटनाएं !
यदि पिछले तीन साल के आंकड़ों पर गौर की जाए तो देश भर में बच्चों पर अत्याचार की घटनाओं में दोगुना वृद्धि देखने के मिलती है ।menaka-gandhi- उधर केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने भी गुरुवार को राज्यसभा में सांसदों द्वारा पूछे गए सवालों में इस आंकड़े की पुष्टि करते हुए कहा कि बच्चों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही है। उन्होंने राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़ों के आधार पर कहा कि देशभर में वर्ष 2012 में बच्चों के खिलाफ अत्याचार के 38 हजार 172 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2013 में 58 हजार 224 और 2014 में 89 हजार 423 मामले दर्ज हुए हैं। आंकड़ो से जाहिर है कि पिछले तीन साल में पिछले तीन साल में बाल अत्याचार की घटनाओं में दोगुनी वृद्धि हुई।

Vaidambh Media

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher