मनरेगा एक संक्षिप्त परिचय

महात्मा गााधी राष्टी्रय ग्रामीण गारण्टी अधिनियम 7सितम्बर 2005 को अधिसूचित किया गया। इसका उददेश्य ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे प्रत्येक परिवार को एक वित वर्ष में कम से कम 100 दिनों का गारंटीयुक्त मजदूरी रोजगार उपलब्ध कराना है। मनरेगा में मजदूरी रोजगार की संवैधानिक गारंटी दी जाती है। बयस्क सदस्य जो अकुशल शारीरिक श्रम करने के इच्छुक हैं पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकतें हंै। मनरेगा में रोजगार के लिए परिवार की पात्रता 100 दिन निर्धारित है। 100 दिन का परिश्रम एक परिवार संयुक्त रुप से एक ही कार्यस्थल अथवा अलग-अलग जगहों पर कर सकते हैं। यहा परिवार का मतलब माता-पिता और उनके बच्चे यानी एकल परिवार से है।
काम के लिए आग्रह व बेराजगारी भत्ता –
अधिनियम के मुताबिक पंजीकरण के लिए सादे कागज पर आवेदन स्थानीय ग्राम पंचायत में किया जाता है।आवेदन में बयस्क सदस्यों के नाम,उम्र ,लिंग व जाति का उल्लेख करना होता है। आवेदन के लिए मौखिक आग्रह भी स्वीकार्य है। योजना के अंतर्गत पंजीयन करने वालों तथा काम के लिए आवेदन करने वालों में कम से कम एक तिहार्इ महिलायें हाेंगी। ग्रामपंचायत विधिवत सत्यापन के बाद रोजगार कार्ड जारी करती है। मजदूरी और सामग्री में 60:40 का अनुपात रखे जाने का निर्णय लिया गया,जिसमे ठेकेदारों व मशीनों की अनुमति नहीं दी गर्इ है। काम के लिए आवेदन करने के पन्द्रह दिन के भीतर  आवेदक को काम मिल जाना चाहिए। यदि इस अवधि में काम उपलब्ध नही कराया जा सका तो आवेदक बेरोजगारी भत्ता पाने का अधिकारी हो जाता है। ऐसी दशा में आवेदक को ध्यान रखना चाहिए कि आवेदन करते समय ही हस्ताक्षर एवं दिनाक युक्त रसीद जमा कर्ता से अवश्य प्राप्त कर लें।मजदूरी पुरुष -महिला दोनों की समान है। मजदूरी का भुगतान पन्द्रह दिन के भीतर अवश्य कर दिया जाना चाहिए।.इसके लिए प्रत्येक ब्यकित को बैंक में खाता खोलना जरुरी है। बेरोजगारी भत्ता भुगतान की जिम्मेदारी ब्लाक के अधिकारी की होती है।
स्वीकार्य परियोजनाएं
अधिनियम की अनुसूची 1 के मुताबिक आरर्इजीएस के तहत ये काम किये जायेंग,े
जल संरक्षण एवं जल संचय,सूखे से बचाव के लिए बृक्षारोपण एवं वन संरक्षण; भूमि सुधारों के लाभानिवतों या आवास योजनाओं मे लाभानिवतों की जमीन तक सिंचार्इ की सुविधा पहुचाना; परम्परागत जलस्रोतो के पुर्ननवीनीकरण हेतु जलाशयों की गाद निकासी; भूमि विकास;बाढ़ नियंत्रण एवं सुरक्षा परियोजनाएं, इसमें जलभराव से ग्रस्त इलाकों से पानी की निकासी भी शामिल है।गाव मे सड़को का जाल बिछाना,जरुरत के हिसाब से पुलिया व नालिया बनायी जा सकती है।बृक्षारोपित जमीन का संरक्षण तथा ऐसी सभी सम्पतित जो मनरेगा से जुड़ी परियोजना का हिस्सा है उसके रखखाव के लिए मनरेगा के जाबकाडऱ् धारक को दायित्व सौंपा जा सकता है; जिसे मजदूरी के लिए उसके दिवसकार्य पर हिसाब किया जाता है।
मेट चयन
कार्य के पर्यवेक्षण और कार्यस्थल पर उपसिथति का अभिलेख रखने हेतु प्रत्येक कार्य के लिये एक मेट को पदनामित किया जा सकता है। एक राजस्व ग्राम में 5से 6 मेटो को प्रशिक्षित किया जाना चाहिए। किसी भी कार्यस्थल पर मेट और कामगारों का अनुपात1:50 होना चाहिए।
मस्टररेाल बंद होनें के बाद मेट को बदल देने का प्राविधान है। ये मस्टरोल क्या हैघ् मनरेगा मजदूरों द्वारा कार्यस्थल पर किये गये श्रम का  विधिवत ब्यौरा दर्ज रजिस्टर, मस्टर रोल कहा जाता है। यह रजिस्टर कार्यस्थल पर कार्य तथा मजदूरी की प्रमाणिकता का दस्तावेज होता है,इसलिए इसे कार्यस्थल पर साथ रखना अनिवार्य किया गया है। मस्टर रोल ग्राम पंचायतों एवं अन्य कार्य एजेंसियों ,द्वारा रखे जाते है। मस्टर रोल निष्पादन एजेंसी के ब्यय अभिलेख का हिस्सा होता है। मस्टर रोल कार्यक्रम अधिकारी  के कार्यालय से जारी होना चाहिए। यदि ऐसा नही है तो उसे अप्राधिकृत माना जायेगा। सप्ताह का एक दिन रोजगार गारंटी दिवस होता है,जहा ग्रामपंचायत के अध्यक्ष व स्टाफ को उपसिथत रहना आवश्यक है।
समस्या निदान
मनरेगा मजदूर किसी भी समस्या की शिकायत ग्रामपंचायत से करें यदि सुनवार्इ नही होती है तो कार्यक्रम अधिकारी के पास शिकायत दर्ज करायें।सात दिनों के भीतर कार्यवाही के लिए उन्हे बाध्य किया गया है। समस्या के निदान के लिए इन हेल्प लार्इन नम्बरों पर भी सम्पर्क कर सकते हैं-1800185999-0522-4055999-9793230999।

Previous Post
Next Post

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher