‘मेक इन इंडिया’ के लिये ‘स्टार्ट-अप’ हुई सरकार !

    जोखिम उठाओ ! निवेश बढ़ाओ ! : पीएम मोदी
New Delhi:  ‘चीन में आए संकट और युआन के अवमूल्यन के बीच भारत कैसे फायदा उठा सकता है’ ;  विषय पर आहुत बैठक में देश के करीब yuaan15 दिग्गज उद्योगपतियों, 5 अग्रणी बैंकरों और 8 अर्थशास्त्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता मे महान विभूतियों ने अपने विचार रखे । 3 घंटे तक चली इस बैठक में कारोबार और प्रशासन से जुड़े कई मसलों पर भी विचार-विमर्श किया गया, जिनमें स्टार्ट-अप, स्मार्ट सिटीज, रोजगार सृजन और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के मूलमंत्र ‘मेक इन इंडिया’ शामिल था । मोदी ने उद्योगपतियों से जोखिम उठाने और अपनी ओर से निवेश बढ़ाने को कहा।

प्रमुख उद्योगपति, बैकर, सरकार के मंत्री बैठक में शामिल हुए

businessman onlineउद्योगों के साथ इस अनूठी बैठक में रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी, टाटा समूह के साइरस मिस्त्री, भारती के सुनील मित्तल, आदित्य बिड़ला समूह के कुमार मंगलम बिड़ला, आईटीसी के वाई सी देवेश्वर, सन फार्मा के दिलीप सांघवी, अदाणी समूह के गौतम अदाणी और     विप्रो के अजीम प्रेमजी शामिल थे। प्रधानमंत्री ने उद्योग जगत को संदेश दिया   उन्हें राष्ट निर्माण में अपना निवेश बढ़ाकर योगदान करना चाहिए और एकजुट होकर रोजगार सृजित कर  वैश्विक संकट से निपटने में भारत की  मदद  करनी  चाहिए। बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया, ‘कुछ लोगों ने  प्रतिक्रिया दी कि वैश्विक संकट को सामान्य तौर पर देखा जाना चाहिए ।’  उनके इस बयान से शेयर और मुद्रा बाजार में भी आज सुधार देखा गया । _Raghuram_Rajanउद्योगपतियों के साथ ही शीर्ष बैंकरों, जैसे भारतीय स्टेट बैंक की चेयमैन अरुंधती भट्टाचार्य, आईसीआईसीआई बैंक की चंदा कोचर और बंधन के चंद्रशेखर घोष के अलावा प्रमुख अर्थशास्त्रियों में मॉर्गन स्टैनली के रुचिर शर्मा, जेपी मॉर्गन के जहांगीर अजीज, ब्रूकिंग्स इंस्टीटयूट के सुबीर गोकर्ण और क्रेडिट सुइस के नीलकंठ मिश्रा ने दिए गए तीन-तीन मिनट में इस बारे में प्रस्तुति दी कि भारत कैसे वैश्विक उतार-चढ़ाव से खुद को बचा सकता है। इसके बाद इन मसलों पर चर्चा की गई। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन के विचार अक्सर सरकार से मेल नहीं खाते हैं लेकिन वह भी 45 सदस्यों वाले इस शिष्टमंडल में शामिल थे। सरकार की ओर से प्रमुख मंत्रियों में अरुण जेटली, जयंत सिन्हा, सुरेश प्रभु, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारामन, पीयूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान मौजूद थे। इसके अलावा, वित्त मंत्रालय और नीति आयोग के वरिष्ठï अफसरों को भी बुलाया गया था।

सरकार ने कहा –  अवसर का फायदा उठाओ !

उद्योगपतियों ने कहा– ब्याज दर घटाओ !

pm modiउद्योगपतियों ने ब्याज दरों में कटौती और कारोबार को सुगम बनाने के लिए और नीतिगत कदम उठाने पर जोर दिया, वहीं वित्त मंत्री ने कहा, ‘हम भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए दूसरे नजरिये से देख रहे हैं। इन कदमों में बुनियादी क्षेत्रों, सिंचाई में निवेश, कारोबार को सुगम बनाना, वैश्विक निवेश आकर्षित करना तथा निजी क्षेत्रों से निवेश बढ़ाना शामिल होगा।’ जेटली ने कहा कि करीब 27 लोगों ने बैठक में अपने विचार जाहिर किए। बैठक में वैश्विक घटनाक्र्म का विश्लेषण और इसे भारत के लिए कैसे अवसर में बदला जाए उस पर विचार किया गया। इस बैठक का मुख्य पहलू यह रहा कि हालिया घटनाक्रम से शेयर बाजार को छोड़ दें तो भारत अब तक इससे अछूता रहा है। भारत को इस अवसर का फायदा उठाना चाहिए।
असंगठित क्षेत्र की मदद में मनरेगा फंड का इस्तेमाल  !

vegitablesउद्योगों ने ब्याज दरों में कटौती की मांग की, जिस पर वित्त मंत्री ने कहा कि यह आरबीआई के अधिकार क्षेत्र में आता है। बैठक के समापन पर प्रधानमंत्री ने किफायती विनिर्माण के महत्व पर जोर दिया और कहा कि मानव संसाधन ही अर्थव्यवस्था की मजबूती है । उन्होंने कहा कि घरेलू बाजार का आकार बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए और केवल निर्यात पर ही निर्भर नहीं होना चाहिए। मोदी ने छोटे और मझोले उपक्रमों का भी हवाला दिया और कहा कि असंगठित क्षेत्र की मदद के लिए मनरेगा फंड को कैसे कौशल विकास में इस्तेमाल किया जाए।

Vaidambh Media

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher