…ये तेरे बड़बोलवचन, अब ‘बस’ हो जायें तो अच्छा है !

 New Delhi : काॅग्रेस पर भ्रष्टाचार के आरोप, क्षेत्रिय पार्टियों की सत्ता लोलुप परिवारवाद , राजनीति की जातिय तंगी से बेहाल जनता नें  गुजरात के एक कार्पोरेट संत को यह मानकर मौका दे दिया कि विकास की कुछ परिभाषा बदलेगी ! एैसा जनता ने साबरमती के संत का मान रखते हुए किया। modigita  पर सत्ता में रहकर भी विपक्ष को आईना दिखाते  इन संत का भी  वक्त बीत रहा है। आरोपों के जवाब और प्रोपगण्डा राजनीति की बहार है !  फेसबुकिया जंग जारी है।  किसान- नौजवान के हाथ फिलहाल झुनझुना ही आया  है। दो वर्षो में पूर्ण बहुमत वाली देश की सरकार विकास कार्य के लिये पूर्ण सत्ता का इंतजार कर रही है ; यानि राज्य- सभा व लोक- सभा दोनो में बहुमत ! अरे भाई इच्छाशक्ति के आगे दुश्मन झंण्डा धर देता है ये तो इसी देश के विपक्षी दल हैं । सरकार साॅठ-गाॅठ के बजाय पहल करे ,  विपक्ष को संतुष्ट करे इससे राजनीति भी मजबूत होती है । सदन में 21वीं सदी का 16वाॅ साल यानि तरुणाई का वर्ष है  अब से  डींग मारना बंद कर यदि वास्तविक धरातल पर देश हित  में ठोस कदम सरकारें उठायें तो सभी भरतवासी एक स्वर में  ‘जय हिंद’  बोल उठे !

अतीत सदैव सबक के लिये होता है नाकि आलोचना व कोसने के लिये । पर राजनीतिक घरानों को एक दूसरे का कृत्य सामने प्रत्यक्ष करने में ही मजा आता है इससे जो फायदा होता है वह इन्हे ही होता है जबकि नुकसान कोई और उठाता है। हर हाल में ठगी जाती है तो वो है जनता ! वर्तमान में सत्तापक्ष का ब्यवहार विपक्ष जैस हो गया है। आइये पिछले कुछ समय में सत्ता पक्ष  के बड़बोलवचन पर गौर करते हैं-

दादरी से लेकर बाबरी तक:

दिल्ली से कुछ ही किलोमीटर दूर दादरी में मोहम्मद अखलाक को भीड़ ने इस अफवाह पर पीट-पीटकर मार डाला था कि उसने एक गाय को मारा है और उसके परिवार ने गोमांस खाया है। Dadriभीड़ का दावा था कि उसके फ्रिज में गोमांस पड़ा हुआ है। इस मुद्दे ने कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक असहिष्णुता का मुद्दा छेड़ दिया। देश में आग की तरह फैले इस मुद्दे पर मुखर प्रधानमंत्री को मौन तोड़ने में एक पखवाड़ा लग गया और जब उन्होंने इस पर बोला भी तो भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने मोदी को याद दिलाया कि आपका सम्मान और आपकी पहचान तो गोधरा और गुजरात के कारण है। विपक्ष ने इस मुद्दे पर केंद्र को घेरा तो भाजपा ने भी इसके जरिए अपने उग्र हिंदुत्व के एजंडे को आगे बढ़ाया था।

महाराष्ट्र, हरियाणा और राजस्थान में बीफ पर प्रतिबंध लगा दिया गया। दिल्ली के केरला हाउस में बीफ परोसे जाने के मसले पर भी खूब हंगामा हुआ और साल के अंत तक गाय पर चर्चा सरगर्म रही। Award-vapsi_अब तक हिंदुत्व एजंडे का प्रतीक माने जाने वाले बाबरी की जगह दादरी ने ले ली और इसके साथ ही पूरे देश में असहिष्णुता की बात छिड़ी। पूरे देश में लेखकों की पुरस्कार वापसी की मुहिम शुरू हुई जिसमें इतिहासकार से लेकर वैज्ञानिक तक शामिल हुए। सरकार ने इसका पलटवार किया और केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पुरस्कार वापसी मुहिम को गढ़ी हुई क्रांति करार दिया। हिंदुत्व के एजंडे के तहत सत्ता पक्ष ने लव जेहाद और धर्मांतरण का हल्ला मचा जो ‘घर वापसी’ की मुहिम छेड़ी थी विपक्ष ने ‘पुरस्कार वापसी’ की मुहिम से उसे कुंद कर दिया। लेकिन साल के अंत में आकर संघ प्रमुख मोहन भागवत से लेकर भाजपा के नेताओं ने भी राम मंदिर का राग अलाप कर अपना हिंदुत्व का एजंडा सेट कर दिया है, और नए साल में इसी पर सियासी घमासान की उम्मीद है।

गीता की महानता के गीत: मोदी के कार्यकाल में हिंदू धार्मिक ग्रंथ गीता की अहमियत के भी खूब गीत गाए गए। baghavad gitaभाजपा और उसकी सहयोगी पार्टियों ने इस धार्मिक ग्रंथ को राष्ट्रीय ग्रंथ का दर्जा देने की कोशिश की। मोदी की विदेश यात्राओं में भी इस ग्रंथ का बोलबाला रहा और प्रधानमंत्री ने अपने विदेशी समकक्षों को इसे भेंट किया। हरियाणा के एक मंत्री ने सलाह दी कि इसे ‘राष्ट्रीय ग्रंथ’ घोषित कर देना चाहिए। और हां, इस साल एक प्यारी लड़की गीता भी चर्चा में रही जो बोलने-सुनने में अक्षम थी और कुछ सालों पहले भारत की सीमा पार कर पाकिस्तान पहुंच गई थी। गीता को पाकिस्तान के ईधी फाउंडेशन ने संरक्षण दिया था।gita ki vapsi सलमान खान की फिल्म बजरंगी भाईजान हिट होते ही फिल्म की चरित्र मुन्नी से मिलती गीता की कहानी सोशल मीडिया पर ऐसी छाई कि भारत सरकार को गीता की वापसी के पूरे प्रयास करने पड़े। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में खासी दिलचस्पी दिखाई और गीता की घर वापसी हुई। लेकिन दुखद यह है कि भारत में अभी तक गीता के परिवार की पहचान नहीं हो पाई है और वह इंदौर में एक एनजीओ के संरक्षण में है।

बोलों पर होता रहा बवाल: पिछले लोकसभा चुनाव में आम जनता जिससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुई थी वह था प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी का मुखर व्यक्तित्व।yogi-prachi अपने खास अंदाज में मोदी ने चुनावी सभा में तो लोगों का दिल जीत लिया लेकिन भाजपा की अगुआई में एनडीए की सरकार बनते ही मोदी के मातहतों ने अपने बोलों से सरकार की खूब किरकिरी करवाई। योगी आदित्यनाथ, साध्वी प्राची, निरंजन ज्योति, गिरिराज सिंह से लेकर कैलाश विजयवर्गीय उग्र हिंदुत्व की भाषा बोलते रहे और अपने विरोधियों को पाकिस्तान भेजने की सलाह देते रहे।Arvind-kejriwal-modi-l5आरक्षण पर दिए अपने बयान के कारण भागवत निशाने पर रहे तो नीतीश के डीएनए में खोट बता कर मोदी ने भी अपने लिए मुसीबत मोल ली। हालांकि मोदी पर पलटवार करने में विपक्ष भी अपना आपा खोता रहा और लालू प्रसाद ने अमित शाह को जहां नरभक्षी तक कह डाला वहीं अपने प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के दफ्तर पर छापेमारी के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को मनोरोगी और कायर तक कह दिया।

अमेरिका से लेकर पाक तक का याराना: नरेंद्र मोदी ने साल 15 की शुरुआत ‘ब्रोमांस’ जैसे जुमले से की और बराक ओबामा के साथ उनकी गलबहियां और चाय पर चर्चा दुनिया भर के अखबारों की सुर्खियां बनीं।modi sareefhandshake मोदी के विदेश दौरे और विदेशी जमीन पर मोदी-मोदी के नारे लगाती भीड़ तो खूब चर्चा में रही लेकिन मोदी की विदेश नीति का जमीन पर कुछ भी ठोस हासिल नहीं दिखा, उलटे भारत को अमेरिका की ओर से सहिष्णुता का पाठ पढ़ाया गया। लेकिन विभिन्न मंचों पर भारत और अमेरिका दोस्ती दिखाने की कोशिश में रहे। साल भर पाकिस्तान से तनातनी का रिश्ता रहा और अगस्त में भारत-पाक सचिव स्तर की वार्ता जिस तरह से रद्द हुई उससे दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया। लेकिन साल के अंत में अफगानिस्तान से लौटते हुए मोदी ने लाहौर में जो सरप्राइज लैंडिंग की वह दोनों देशों के साथ पूरी दुनिया को एक सुखद संदेश दे गया और भारत-पाक दोस्ती में अमेरिका भी दीवाना हुआ।

जुमले पर जुमला

खाते में कभी नहीं जाते 15 लाख: ’नरेंद्र मोदी के काला धन वापस लाने के बाद हर परिवार के खाते में 15-15 लाख रुपए जमा करने की बात बस एक जुमला है। ये चुनावी भाषण में वजन डालने के लिए बोली गई बात है क्योंकि किसी के खाते में 15 लाख रुपए कभी नहीं जाते, ये बात जनता को भी मालूम है।

modi-shah ’अगर बिहार में गलती से भाजपा हार जाती है तो जेल में बंद शहाबुद्दीन खुश होगा, पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे।… अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष

 

 

  modi_jpg_ नीतीश के डीएनए में खोट: एक समय नीतीश ने न्योता देकर भोज रद्द कर दिया, इसके बाद 17 सालों का भाजपा-जद (यू) गठबंधन तोड़ दिया। उस समय मुझे दुख हुआ था, लेकिन जब उन्होंने जीतन राम मांझी जैसे महादलित के साथ भी ऐसा किया, तब मैंने सोचा की उनके राजनीतिक डीएनए में ही कुछ गड़बड़ है।... नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

arun jetlyलेखकों का गढ़ा हुआ विरोध: दादरी में अल्पसंख्यक समुदाय के एक सदस्य की पीट-पीटकर की गई हत्या बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। सही सोच रखने वाला कोई भी इंसान न तो इस घटना को सही ठहरा सकता है और न ही इसे कम करके आंक सकता है। ऐसी घटनाएं देश की छवि खराब करती हैं। इसके बाद दर्जनों लेखकों ने अपने साहित्य अकादेमी अवार्ड लौटा दिए हैं। यह सचमुच का विरोध है या गढ़ा हुआ विरोध है? क्या यह वैचारिक असहनशीलता का मामला नहीं है?… अरुण जेटली, केंद्रीय वित्त मंत्री

 sangeet-som-bjpकर देंगे चढ़ाई: अत्याचार हुए तो एक लाख लोगों को लेकर चढ़ाई कर देंगे। पहले भी मुंहतोड़ जवाब दे चुके हैं और अब भी देंगे।... संगीत सोम, भाजपा विधायक

 

ram madhavअखंड भारत का अलाप: भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश एक दिन फिर से एक होंगे और अखंड भारत का निर्माण करेंगे। अखंड भारत का निर्माण बिना किसी जंग के आपसी रजामंदी से मुमकिन है।… राम माधव, भाजपा नेता

  Mohan-Bhagwatमंदिर का संकल्प: भगवान राम भारत के कण-कण में बस गए हैं। राम मंदिर निर्माण का संकल्प पूरा होकर रहेगा। इसके लिए एक भव्य लक्ष्य मेरे सामने है। हमें एक भव्य मंदिर बनाना है।… मोहन भागवत, संघ प्रमुख

 

नये वर्ष के प्रारम्भ के साथ ये बोलवचन मिश्री घोलते हुए समाज में भाई-चारा बढ़ायें ! ये उम्मीद करने में कोई गुरेज नही होना चाहिए। वैसे भी कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी…!

Vaidambh Media

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher