विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन चैम्पियनशिप विजेता भारतीय

11

साइना नेहवाल ने अपने करियार की शुरुआत जूडो से की
साइना ने अपने करियार की शुरुआत जूडो से की थी और उन्होंने इसकी पांच-छह महीने की ट्रेनिंग भी ली थी। इसके बाद एक कोच के कहने पर साइना के पिता डॉ. हरवीर सिंह ने उनके हाथों में बैडमिंटन रैकेट थमा दिया था। साइना के पिता के मुताबिक जब वो हैदराबाद में शिफ्ट हुए तो साइना को यहां की भाषा तेलुगू नहीं आ रही थी, इस पर उन्होंने सोचा साइना भाषा न सीख सके लेकिन कम से कम यहां के लोगों के हाव-भाव को सीख जाए। बस इसी मकसद से उन्होंने साइना को जूडो खेल में डाल दिया।
विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय

s.n

बैडमिंटन के खेल में साइना ने थोड़े समय में ही अंडर-10 आयुवर्ग की राज्यस्तरीय चैंपिययनशिप जीत ली। इसके बाद 11 साल की उम्र में उसे एक फेलोशिप मिल गई। 2006 में कॉमनवेल्थ खेल में भी उन्हें जाने का मौका मिल गया और उन्होंने इस खेल में कांस्य पदक हासिल किया। साइना के पिता ने कहा कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि वह वर्ल्ड की नंबर एक खिलाड़ी बनेगी। सिंह ने कहा कि वह तो साइना को मैडिकल स्ट्रीम दिलाना चाहते थे क्योंकि साइना की बड़ी बहन को भी उन्होंने फार्मासिस्ट का कोर्स कराया था। मगर जब उन्होंने देखा कि वह बैडमिंटन में बढ़िया प्रदर्शन कर रही है तो उन्होंने अपना इरादा बदल लिया। ज्ञात हो कि वर्ष 2012 में लंदन ओलंपिक में महिला एकल स्पर्धा में साइना ने कांस्य पदक विजेता रही थी। बैडमिंटन मे ऐसा करने वाली साइना भारत की पहली खिलाङी हैं। साइना बीजींग ओलंपिक 2008 में भी क्वार्टर फाइनल तक पहुँची थी। वह विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय हैं।
राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित

arjun award
ओलंपिक कांस्य के अलावा अलावा उन्होंने अपने कैरियर में 14 अंतरराष्ट्रीय खिताब भी जीते हैं। हाल ही में वह आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी। प्रकाश पादुकोण नंबर वन पुरूष खिलाड़ी रह चुके हैं, लेकिन शीर्ष रैंकिंग हासिल करने वाली साइना पहली भारतीय महिला खिलाड़ी है। था। साइना भारत सरकार द्वारा पद्म श्री और सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित हो चुकीं हैं।
हैदराबाद के लाल बहादुर स्टेडियम से की शुरुआत
साइना का जन्म १७ मार्च १९९० को हिसार, हरियाणा के एक जाट परिवार मे हुआ था। इनके पिता का नाम डॉ॰ हरवीर सिंह नेहवाल और माता का नाम उषा नेहवाल है। साइना साईं के नाम से बना है।[4] सायना ने शुरुआती प्रशिक्षण हैदराबाद के लाल बहादुर स्टेडियम में कोच नानी प्रसाद से प्राप्त किया। माता-पिता दोनो के बैडमिंटन खिलाड़ी होने के कारण सायना का बैडमिंटन की ओर रुझान शुरु से ही था। पिता हरवीर सिंह ने बेटी की रुचि को देखते हुए उसे पूरा सहयोग और प्रोत्साहन दिया। सायना अब तक कई बड़ी उपलब्धियाँ अपने नाम कर चुकी हैं। वे विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियन रह चुकी हैं। ओलिम्पिक खेलों में महिला एकल बैडमिंटन के क्वार्टरफाइनल तक पहुँचने वाली वे देश की पहली महिला खिलाड़ी हैं। उन्होंने 2006 में एशियन सैटलाइट चैंपियनशिप भी जीती है। उन्होंने 2009 में इंडोनेशिया ओपन जीतते हुए सुपर सीरिज बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम किया, यह उपलब्धि उनसे पहले किसी अन्य भारतीय महिला को हासिल नहीं हुई। दिल्ली में आयोजित राष्ट्रमंडल खेल में उन्होंने स्वर्ण पदक हासिल किया |
वर्ष 2015 में नई दिल्ली को योनेक्स सनराइज इंडिया ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन प्रतियोगिता के सेमीफाइनल में विश्व चैम्पियन जापान की युई हाशिमोतो को 44 मिनट में 21-15,21-11 से हराने के साथ ही दुनिया की शीर्श वरीय खिलाड़ी बनी और फाइनल मैच में थाईलैंड की रत्चानोक इंतानोन को हराकर 29 मार्च 2015 को योनेक्स सनराइज इंडिया ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट की महिला एकल ख़िताब की विजेता बनीं। अप्रैल २०१५ में आधिकारिक रूप से उनकी विश्व रैंकिंग १ घोषित की गई। इस मुकाम तक पहुँचने वाली वे प्रथम भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी हैं

Saina_her mom saina-father

व्यक्तिगत जानकारी

देश                  : भारत

 जन्म               : 17 मार्च 1990 (आयु 25), हिसार जिला ,हरियाणा,

कोच                  : पुल्लेला गोपीचंद
                         :  अतीक जौहारी
• ऊंचाई              : 1.65 m
• वज़न               : 60 kg
• अभिभावक       :हरवीर सिंह नेहवाल, उषा नेहवाल
• पुरस्कार           : अर्जुन पुरस्कार – बैडमिंटन, पद्म श्री, अधिक
• शिक्षा                : कैंपस विद्यालय, राष्ट्रीय ग्रामीण विकास संस्थान,

                             सेंट ऐन्स       जुनियर कॉलेज

 

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher