सरकार की शिक्षा योजना में कमी गिनाने पर यू जी सी को चेतावनी !

कुछ भी बोलने से पहले इजाजत ले लें यूजीसी चेयरपर्सन : मानव संसाधन मंत्रालय

smriti erani  $ ugcनई दिल्ली: यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन(यूजीसी) के चेयरपर्सन वेद प्रकाश को सरकारी नीतियों के खिलाफ बोलने पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कड़ी फटकार लगाई है। मंत्रालय ने उनसे कहा है कि आगे से सरकारी योजनाओं के खिलाफ कुछ भी बोलने से पहले इसकी इजाजत ले लें। गौरतलब है कि वेद प्रकाश ने 26 मई को संसद की स्टैंडिंग कमिटी के सामने राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान की आलोचना की थी।

 शिक्षा कार्यक्रम की राशि शिक्षण संस्थानों तक पहुॅचाने के लिये लगे हैं दलाल:यू जी सी  

उन्होंने  कमिटी के सामने इस अभियान के तहत यूनिवर्सिटीज को फंड देने की आलोचना की थी। वेद प्रकाश ने कहा था कि, इसकी वजह से कार्यक्रम की राशि सीधे राज्य सरकार के शिक्षण संस्थानों तक नहीं पहुंच रही है और दलालों से होकर जा रही है। इस अभियान के जरिए राज्य यूनिवर्सिटीज को फंड देने और व्यवस्थागत सुधारों को देखने के काम से यूजीसी की अवहेलना हो रही है। हालांकि बैठक में मंत्रालय के अधिकारियों ने उनकी बातों का खंडन किया था।

सरकार के पक्ष  का एकसुर में समर्थन किया जाता है न कि  विरोध : शिक्षा सचिव

smritee eraneeइस बैठक के एक दिन बाद तत्कालीन शिक्षा सचिव एसएस मोहंती ने पत्र भेजकर वेद प्रकाश से कहा था कि, सरकार के पक्ष और नीतियों का एकसुर में समर्थन किया जाता है न कि उनके विरोध में कुछ कहा जाता है। अगर किसी नीति पर सरकार की लाइन से अलग बात कहनी है तो इसके लिए सचिव से पहले अनुमति लेनी पड़ती है। इस घटना के बारे में मंत्री स्मृति ईरानी को भी बताया गया था।
मोहंती ने वेद प्रकाश को याद दिलाया कि ऎसी बैठकों में एक तय परंपरा का पालन किया जाता है। उन्होंने इसे भविष्य में संसदीय निकायों की बैठकों के लिए भी याद रखा जाए।

Vaidambh Media

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *