हर्निया : जानकारी – लक्षण – उपचार

 हर्निया  क्या  है ?

Gorakhpur : गलत खान-पान के कारण आजकल लोगों में पेट से जुड़ी कई समस्याएं देखने को मिलती है। इन्ही में से हर्निया भी एक है। पेट की मांसपेशियां कमजोर हो जाने से आंत बाहर निकल जाती है। जिसे हर्निया कहा जाता है। इसके कारण कब्ज रहना, मोटापा, पेट में सूजन,भारीपन और दर्द महसूस होने लगता है। समय पर इसका सही इलाज न करने पर यह समस्या बढ़कर गंभीर रूप भी ले सकती है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए लोग कई दर्दनाक ट्रीटमेंट करवाते है। हमारे शरीर के आंतरिक अंगों को अपनी जगह पर थामे रखने वाले ‘मसलवाल मेम्ब्रेन ‘ या टिशू जब कहीं से कमजोर हो जाते हैं या उनमें कहीं छेद हो जाता है तो उसे हर्निया कहते हैं। एक बार जब कमजोर हिस्सा या छेद बड़ा हो जाता है तो आंतरिक अंग का कोई हिस्सा बाहर की ओर निकलने लगता है। इस तरह हर्निया एक ऐसे थैले जैसा होता है जिसमे एक छोटा छेद हो जाता है जिसके कारण थैले के अंदर की चीजें जैसे खाना डिब्बे आदि बाहर निकलने लगते हैं। चूंकि हर्निया कई कारणों से हो सकता है इसलिए उसकी जांच कैसे की जाये यह जानना महत्वपूर्ण है!

कुछ आसान घरेलू तरीकों से भी इस परेशानी को दूर किया जा सकता है। तो आइए जानते है हर्नियां की समस्या से छुटाकारा पाने के आसान और असरदार घरेलू उपाय।

हर्निया के कारण

   भारी वजन उठाना
शराब या धुम्रपान का सेवन
जेनेटिक प्रॉब्लम
चोट लगना
मोटापा
पेट की मांसपेशियों का कमजोर होना
योनि में प्रॉब्लम
तेज खांसी

हर्निया के लक्षण –

नाभि या पेट में असहनीय दर्द
पेट मे  भारीपन आंतो का बाहर आना
ज्यादा छींक आना
उल्टी कमजोरी पेशाब करने मे परेशानी
कब्जरहना
पेट में गांठ या सूजन      

हर्निया के इलाज में कारगर घरेलू नुस्खे !

1- कैमोमाइल चाय

एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर कैमोमाइल चाय में शहद मिलाकर दिन में कम से कम 4 बार सेवन करें। यह आपके पाचन तंत्र को ठीक रखता है और हर्निया की समस्या को दूर करता है।

   2 – अदरक की जड़ 

     अदरक की जड़ या इसे कच्चा खाने से भी आपको हर्निया की समस्या से छुटकारा मिलता है। इसके एंटीइंफ्लेमेटरी गुण आपकी हर्निया की समस्या को दूर करते है और पेट के दर्द को को भी खत्म करते है।

3- मुलेठी की चाय
मुलेठी की चाय बनाकर पीने से क्षतिग्रस्त ऊतकें तेजी से ठीक होती है। मुलेठी में एनाल्जेसिक गुण होने के कारण पेट दर्द और सूजन की समस्या भी दूर होती है।

4- सेब का सिरका

    एप्पल साइडर सिरका 1.2 चम्मरच एप्पनल साइडर सिरका को गर्म पानी में मिक्स करके दिन में दो बार पीएं। इससे आपकी हर्निया की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी।

5- छोटी हरड़
छोटी हरड़ को दूध में उबालने के बाद अरंडी के तेल में तलकर पाउडर बना लें। इसके बाद इसमें काला नमकए अजवायन और हींग मिलाएं। दिन में 2 बार इस पाउडर का सेवन करने से आपकी हर्नियों की समस्या कुछ समय में ही दूर हो जाएगी।

 हर्निया का  लक्षण दिखने पर डाक्टर से मिलें!

हर्निया होने के बाद  एकमात्र इलाज सर्जरी है। आपका डाक्टर ओपेन सर्जरी या लैप्रोस्कोपिक सर्जरी कर सकता है। लैप्रोस्कोपिक सर्जरी में कम दर्द होता है, चीरा भी छोटा लगता है और रिकवरी भी तेजी से होती है।
यदि आपका हर्निया छोटा है और कोई लक्षण भी नहीं है तो आपका डाक्टर उसे निगरानी में रखेगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि स्थिति और न बिगड़े।
उदाहरण के लिए वजन उचित तरीके से उठा सकते हैं, यदि आपका वजन ज्यादा हो तो उसे घाटा सकते हैं या कब्ज से बचने के लिए फाइबर और फ्ल्युइड्स को  आहार में शामिल कर सकते हैं।

   Vaidambh Media

Previous Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher