हिमस्खलन में देश रक्षा करते शहीद हुए जवानो की जारी हुई सूची !

Srinagar : देश की रक्षा के लिये सीमा पर सीना तानेखड़ा जवान न तो हिन्दू होता है नाही मुसलमान ;  ना ही वह किसी जाति का! वह सिर्फ सिपाही होता है ! जो अपने वतन ; यानि मिट्टी ,पानी ,हवा ,जीव -जन्तु , समाज- संस्कृति को सुरक्षित रख सके! पर क्या देश की राजनीति में भी ऐसा है ?  यदि नही तो क्यो ?Siachen सियाचिन ग्लेशियर में अपनी जिम्मेदारी निभाते ; जो 10 जवान शहीद हो गये वह सिर्फ सिपाही थे और देश की सेवा करते हुए जान दे दिये ! सेना ने शुक्रवार को उन 10 सैनिकों के नामों की सूची जारी की जो बुधवार को सियाचिन ग्लेशियर में आए हिमस्खलन की वजह से मारे गए थे.

 

जिन सैनिकों की मौत हुई है, उनके नाम सूबेदार नागेश टीटी (तेजूर, जिला हासन, कर्नाटक), हवलदार इलम अलए एम (दुक्कम पाराई, जिला वेल्लोर, तमिलनाडु), लांस हवलदार एस. कुमार (कुमानन थोजू, जिला तेनी, तमिलनाडु), लांस नायक सुधीश बी (मोनोरोएथुरुत जिला कोल्लम, केरल), लांस नाइक हनमानथप्पा कोप्पड, (बेटाडुर, जिला धारवाड़, कर्नाटक), सिपाही महेश पीएन (एचडी कोटे, जिला मैसूर, कर्नाटक), सिपाही गणेशन जी (चोक्काथेवन पट्टी, जिला मदुरै, तमिलनाडु), सिपाही राम मूर्ति एन (गुडिसा टाना पल्ली, जिला कृष्णागिरी, तमिलनाडु), सिपाही मुश्ताक अहमद एस. (पारनापल्लै, जिला कुर्नूल, आंध्र प्रदेश) और सिपाही नसिर्ंग असिस्टेंट सूर्यवंशी एसवी (मस्कारवाडी, जिला सतारा, महाराष्ट्र) हैं.siyachin1
सेना की उत्तरी कमान के प्रवक्ता एस.डी. गोस्वामी ने बताया कि सैनिकों के शवों को निकालने का काम अभी जारी है.सियाचिन में हिमस्खलन की चपेट में आने से बुधवार को लापता हुए जेसीओ समेत सेना के सभी 10 जवानों की मौत हो गई थी. 19 हजार फुट की ऊंचाई पर सेना के कैंप के पास बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे के करीब हिमस्खलन हुआ था. इसमें कैंप के दक्षिण में गश्त कर रहे 10 जवान फंस गए थे!

Vaidambh Media

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *