2017 का चुनावी बिगुल मैटरो में बैठकर ही फूंकेेगें अखिलेश !

  Lucknow : शहरी यात्रा को गतिशील व आरामदायक बनाने वाली मैट्ो परियोजना भले ही निर्माण के बक्त खर्चीली लगती हो पर विशेषज्ञ इसे हर तरह से उपयुक्त बताते हैं!  E-Sreedharan-तभी तो तमाम आधारभूत समस्याओं के बीच मुख्यमंची जी अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने में जी जान से जुट गये हैं। ऐसा लगता है कि 2017 का चुनावी बिगुल मैटरो में बैठकर ही  फूंकेेगें।  लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (एलएमआरसी) के अधिकारी इस समय दिसंबर 2016 तक मेट्रो रेल दौड़ाने का लक्ष्य हासिल करने में जुटे हैं। व्यस्त कार्यक्रमों में एलएमआरसी के प्रबंध निदेशक कुमार केशव से मुलाकात मुश्किल है। एलएमआरसी  सूत्र बताते हैं कि अधिकारी ‘परियोजना की वजह से  बहुत व्यस्त रहते हैं। इतने व्यस्त रहते हैं कि उनसे कार्यालय के कर्मचारियों की मुलाकात भी मुश्किल होती है।’ ई श्रीधरन,  परियोजना  के प्रमुख सलाहकार हैं ; जिन्हे मेट्रो मैन भी कहा जाता है।

मेट्रो परियोजना के पहले चरण में खर्च होंगे 2000 करोड़ रुपये !

इस समय लखनऊ हवाईअड्डे से चारबाग रेलवे स्टेशन के बीच 8.5 किलोमीटर की पहले चरण की परियोजना पर काम चल रहा है।lkw metro उत्तर दक्षिण गलियारे के इस हिस्से का 47 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। एलएमआरसी के जनसंपर्क अधिकारी अमित कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि इसके निर्माण में करीब 2000 करोड़ रुपये खर्च होंगे। श्रीवास्तव ने कहा, ‘स्मार्ट प्रोजेक्ट मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर हमें परियोजना के काम की निगरानी करने में मदद कर रहा है।’ इस परियोजना पर पिछले साल काम शुरू हुआ था। लखनऊ मेट्रो परियोजना उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की 3 प्रिय परियोजनाओं में से एक है। वह चाहते हैं कि 2017 के विधानसभा चुनाव के पहले इसके कुछ हिस्से का काम पूरा हो जाए। उनकी दो अन्य प्रिय परियोजनाएं आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे और लख्रनऊ आईटी सिटी परियोजना है। इस पर क्रमश: 15,000 करोड़ रुपये और 1,500 करोड़ रुपये लागत आने की उम्मीद है। सभी तीनों परियोजनाओं पर काम चल रहा है और उम्मीद की जा रही है कि चुनावी बिगुल बजने के पहले काम पूरा हो जाएगा।

कानपुर, वाराणसी, आगरा और मेरठ में भी  दौड़ायेंगे मेट्रो रेल  !

metro nirmanशुरुआती विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना- उत्तर दक्षिण और पूर्व पश्चिम गलियारे के लिए तैयार किया गया है, जिसकी लंबाई 23 किलोमीटर और 11 किलोमीटर है। इस पर क्रमश: 6,880 और 5,494 करोड़ रुपये की लागत आएगी। उत्तर दक्षिण गलियारे में 19 स्टेशन जमीन के ऊपर हैं, जबकि 3 अंडरग्राउंड स्टेशन होंगे। योजना के मुताबिक पहले चरण पर काम दिसंबर 2016 में पूरा कर लिया जाएगा, क्योंकि 3 महीने के प्रायोगिक परीक्षण के बाद ही इसे चालू किया जा सकेगा। राज्य सरकार कानपुर, वाराणसी, आगरा और मेरठ में भी मेट्रो रेल सेवा शुरू करने को इच्छुक है।

मेट्रो परियोजना के लिए भारत को 5,479 करोड़ रुपये ऋण देगा जापान

नरम पड़ रही अर्थव्यवस्था में निर्यात के बेहतर आंकड़ों से थोड़ी उम्मीद जगी है। अगस्त में देश का निर्यात 13 फीसदी बढ़कर 26.14 अरब डॉलर पहुंच गया जो पिछले साल इसी माह में 23.13 अरब डॉलर था।lkw अमेरिका, यूरोप और एशिया प्रशांत क्षेत्र में मांग बढऩे से लगातार दूसरे महीने निर्यात बढ़ा है, वहीं सोने जैसे बहुमूल्य धातुओं के आयात पर सरकार की बंदिशों के कारण व्यापार घाटा भी कम हुआ है। इसमें कहा गया है कि भारत इस समय बुनियादी ढांचा परियोजनाओं पर सबसे ज्यादा जोर दे रहा है। इसमें शहरी बुनियादी ढांचे पर सबसे ज्यादा जोर है। बयान में कहा गया है, ‘शहरी बुनियादी ढांचे में मेट्रो रेल का प्रावधान को ज्यादा महत्त्व दिया जा रहा है क्योंकि यह पर्यावरण के अनुकूल है। इससे शहरों में यातायात की समस्या का समाधान होता है, जहां बहुत ज्यादा वाहन होने की वजह से दिक्कत हो रही है। साथ ही यह ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को कम करती है।’ इस संबंध में भारत लगातार कोशिश कर रहा है कि द्विपक्षीय व बहुपक्षीय वित्तपोषण के समझौते हों, जिससे वित्तीय जरूरतें पूरी की जा सकें।

Vaidambh Media

Previous Post
Next Post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

hogan outlet online scarpe hogan outlet nike tn pas cher tn pas cher nike tn 2017 nike tn pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher air max pas cher scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet scarpe hogan outlet chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher chaussures louboutin pas cher