गाॅव जो दिखा रहा विश्व को आईंना !

इस गाॅव ने अपनी ठाट के साथ-साथ मनुष्यता भी संजो  रखी है।

Lucknow : मुठठी भर लोगों की जेब भरने की कोशिश में पूरी दुनिया को बड़ी चालांकी से विनाश का सहगामी बना लिया गया है। इसमें सत्ता पक्ष का योगदान अतुलनीय है। आधुनिकता की अंधी दौड़ में बेजान मशीनें जीवों से जादा विश्वसनीय हो गईं हैं। लोगों की जिंदगी छोटी होती जा रही है । बचपन- जवानीं-बुढ़ापा कितना जल्दी में है प्रत्यक्ष है सबकुछ। क्या यही संसार है जहाॅ इनसान को इनसानियत के अलांवा हर बुरी चीजों से लगाव बढत़ा जा रहा है। स्वयं को वैश्विक बताने वाले इसी संसार में बसुधैव कुटुम्बकम् का मजाक बनते देखा जा सकता है। दुनिया में कुछ लोगों ने आज भी स्वयं को इस तड़क- भड़क से दूर रहकर सबकुछ जानते हुए भी आधुनिकता को नहीं अपनाया बल्कि अपने परम्परागत ब्यवस्था में खुश है। वर्तमान आधुनिकता के वाहक लोगों को एक बारयहाॅ जरुर जाना चाहिए; मनुष्य व मशीन का अंतर समझ में आ जायेगा । ऐसी सम्भावना  है। इंटरनेट आज जहां जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है, वहीं कई गांव ऐसे हैं जहां इंटरनेट क्या है कोई नहीं जानता। इटली का एक गांव ऐसा है जो भले ही इंटरनेट से न जुडा हो लेकिन अपने खास अंदाज की वजह से जगह-जगह वेब दुनिया की छाप लिए हुए है।

नदी- वन- पहाड़- खेत- खलिहान -चरागाह -चैपाल सब आज बिल्डरों से भयग्रस्त हैं क्यों ?

हमारे देश में स्मार्ट गाॅव व स्मार्ट शहर बनाने की होड़ मचाई जा रही है ! नदी- वन- पहाड़- खेत- खलिहान -चरागाह -चैपाल सब आज बिल्डरों से भयग्रस्त हैं। प्रकृति प्रकोप दिखा रही है। पर सत्ताई लोगों में कोई सुधार नही । विश्व भर के लोग इक्ठठा होकर दुनियाॅ भर की आपदा पर घड़ियालू आॅसू बहाकर अगले दिन विनाशाकारी परीक्षण कर डालते हैं। मनुष्यता का बस ढ़ोंग हो रहा है।  मिलान के कलाकार बियांकोशॉक इटली के कैंपोबासो प्रांत के एक गांव सिविटाकैंपोमारनो में अपने प्रोजेक्ट wave 00 के लिए गए थे। वहां उन्होंने सोशल मीडिया की ऐसी छटा गांव के परिवेश में बिखेरी कि गांव दूर से ही एडवांस और वेब कनेक्टेड लगने लगा।
टेलीफोन बूथ भले ही शहरों से गायब हो गए हों लेकिन इस गांव में आज भी मौजूद हैं।

booth
फेसबुक की आभासी वॉल को भूल जाइए, क्योंकि यहां वास्तविक वॉल मौजूद है जहां हर तरह की जानकारी चस्पा होती हैं। लोग यहां आकर चर्चा करते हैं। गप्पे मारते हैं । मिलजुलकर ठहाके भी लगाते हैं। ये वो बेंच है जहां नागरिक आकर बैठते हैं और बतियाते हैं, ट्विटर का मतलब भी यही है न।

CHAUPAL
गाॅव की चैपाल

शायद ये महिला इस इलाके के बारे में सारी जानकारी रखती है, इसीलिए तो इनके घर के बाहर विकीपीडिया का निशान बनाया गया है।

JAANKAR
गाॅव की ज्ञानी ब्यक्ति

गांव की ये बनिये की ये दुकान ई.बे से कम पॉपुलर नहीं है।

SHOPKEEPER
गाॅव में बनिये की दुकान जहाॅ सबकुछ मिल जाता है

ये लोग जी मेल नहीं जानते। चिट्ठी पत्री का ये सिलसिला आज भी कायम है।

POSTBOX
पोस्ट बाक्स: आज भी चिठ्ठी दिल की बात कहती है।

गांव की कैमिस्ट की दुकान भी तो बीमारियां दूर करती है । अवास्ट एंटी वायरस की ही तरह।

CHEMIST
ये भब्य केमिस्ट की दुकान,   विश्वसनीय संस्थान में से एक है।

ये है यहां का लोकल यूट्यूब जहां एक साथ ही वीडियो देखते हैं गांववाले वो भी बिना बफरिंग के।

ENTERTANMENT
सामुहिक मनोरंजन की शानदार सुविधा।

आपकी लाइफ में भले ही टिंडर हो लेकिन यहां के लोगों के लिए गांव में एक रोमांटिक जगह भी है।

ROMANTIC PLACE
रोंमांस की खूबसूरत जगह ।

वी ट्रांसफर पर तो फिर भी लिमिट है। लेकिन ये सर्विस बिना किसी लिमिट के हमेशा चलती रहती है।

transfer
ट्रंासपोर्ट सुविधा

इस गांव का वीडियो

तो सोशल मीडिया के एडिक्ट लोगों के लिए भले ही ये जगह थोडी बोरिंग लगे लेकिन ये जगह सोशल मीडिया जैसी आभासी दुनिया से कहीं ज्यादा अच्छी है।

(संदर्भ आईचैक से साभार )

V.N.S