पर्यावरण ने ऑस्ट्रेलिया में रोकी प्रधानमंत्री मोदी के करीबी ; अडानी ग्रुप की रफ्तार !

New Delhi :  प्रधानमंत्री मोदी के करीबी अडानी ग्रुप को ऑस्ट्रेलिया में फिर एक बड़ा झटका लगा है। coalgirlअडानी ग्रुप ने ऑस्ट्रेलिया में कोयले की सबसे बड़ी माइंस ली है लेकिन पर्यावरण को लेकर मामला फिर सुप्रीम कोर्ट में अटक गया है। लगभग पौने दो लाख करोड़ रूपए के इस ऑस्ट्रेलिया प्रोजेक्ट पर अगर अड़ंगा लगा तो अडानी के भविष्य पर ही सवाल उठने लग सकते हैं। अटकलें लग रही है  कि ऑस्ट्रेलिया में विवादों से घिरते अडानी ग्रुप से अब पीएम मोदी ने भी दूरियां बना ली हैं।

एयर इंडिया वन विमान में अडानी ग्रुप के अध्यक्ष अब नज़र नहीं आते !

पीएम मोदी के विदेशी दौरों पर अब उनके एयर इंडिया वन विमान में अडानी ग्रुप के अध्यक्ष नज़र नहीं आते हैं। अडानी ग्रुप को भी विदेश में किसी तरह का डिप्लोमेटिक सपोर्ट नहीं मिल रहा है। सूत्रों के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के एक पर्यावरण ग्रुप ने क्वींसलैंड सुप्COAL MINEरीम कोर्ट में याचिका दायर करके आग्रह किया है कि अडानी की कोयला खदानों को दी गई पर्यावरण अनुमति की न्यायिक जांच की जाए ।पर्यावरण ग्रुप का आरोप है कि जोड़तोड़ के चलते अडानी की खदानों को ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने पर्यावरण की हरी झंडी दी है। इससे पहले कई साल से अटके अडानी के प्रोजेक्ट को क्वींसलैंड पर्यावरण विभाग ने दो महीने पहले हरी झंडी दी थी। इस हरी झंडी मिलने के बाद गौतम अडानी ने ऑस्ट्रेलिया में तेज़ी से काम शुरू करने का प्लान बनाया था। लेकिन अडानी की गति फिर रूक गई है।

Adani adaniअब अडानी ग्रुप के प्रवक्ता का कहना है कि पर्यावरण की सभी शर्तों का ग्रुप पालन करेगा और इस प्रोजेक्ट से क्वींसलैंड को रोजगार के बड़े अवसर भी मिलेंगे। अडानी ग्रुप का कहना है  कि किसी भी कीमत पर ये मेगा प्रोजेक्ट ना रुके।  रुका तो कम्पनी को घाटा ही घाटा होगा। बहरहाल दुनिया के सबसे बड़े कोल माइनिंग प्रोजेक्ट में से एक को लेकर अगर क्वींसलैंड की सुप्रीम कोर्ट फिर से जाँच कराती है तो अडानी ग्रुप का इस झटके से उभरना मुश्किल होगा।

V.N.S.