ये गाॅववासी बिना एचआईवी टेस्ट के नहीं करेंगे शादी !

 शादी के इच्छुक लड़का-लड़की  को कराना होगा एच आईवी टेस्ट

Mumbai : सदन की अपनी मजबूरियां हैं या बहाने की आदत जो भी हो पर इच्छाशक्ति हो तो कोई कहीं भी मिशाल बन सकता है।Hivi-qendrat जैसे इस छोटे से गाॅव ने बड़ा काम कर डाला। महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले के चिखली तहसील के 5 गावों की पंचायतों ने मिलकर बड़ा फैसला लिया है। इन पंचायतों ने एचआईवी को मात देने लिए एक बड़ा फैसला लिया है। पंचायतों ने कहा है कि अब उन ही लड़के-लड़कियों की शादी होगी जो एचआईवी टेस्ट में पास होंगे।

इसका मतलब अब शादी से पहले लड़के और लड़की दोनों को एचआईवी टेस्ट कराना  पड़ेगा, इसके बाद ही वो शादी कर सकेंगे।HIV- ये देश की छोटे- बड़े सभी सदन  को आईना दिखाने जैसा काम है। जहाॅ जरुरत की बातों पर कभी काम होता है!  ये बात अब मजाक की चीज बन गया है। स्थानीय निवासियों के मुताबिक इन सभी पांच गावों ने मिलकर जो निर्णय लिया है उससे देश की भावी पीढ़ी एचआईवी मुक्त होगी। ऐसे ही निर्णय देश की हर पंचायत को लेना जरूरी है ताकि देश इस बिमारी से मुक्त हो, इस निर्णय से इन सभी गांवों के लोग संतुष्ट हैं।

एचआईवी मुक्त करने की मुहिम !
इस निर्णय के तहत गांववाले अपने इलाके को एचआईवी मुक्त करने की मुहिम चला रहे हैं।Symptoms_of_acute_HIV_infection.svg महाराष्ट्र में अभी पांच गावों के लोगों ने मिलकर ये फैसला लिया है। इन गांवों के लड़के-लड़कियों को शादी करने से पहले सरकारी स्वास्थ्य केंद्र पहुंच कर अपने खून की एचआईवी जांच करनी होगी और सर्टिफिकेट लेना होगा, इस तरह भावी पीढिय़ां एचआईवी मुक्त होंगी। यह फैसला तब लिया गया है  जब हर साल एचआईवी से 10 लाख लोग प्रभावित होते हैं। दुनिया भर में 3.5 करोड़ से ज्यादा लोग एचआईवी संक्रमित हैं। इनमें से दो तिहाई सबसहारा अफ्रीकी देशों में हैं। दुनियाभर के डॉक्टर तीन दशक से ह्यूमन इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस यानी एचआईवी के बारे में जानकारी जुटा रहे है। दुनियाभर में इन सालों में तीन करोड़ से अधिक लोग एड्स के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

Vaidambh Media