सिंचाई सुविधा के लिए 30,000 करोड़ रुपये किसानों को कर्ज देगा नाबार्ड

 5 साल में  किसानों को  50,000 करोड़ रुपये  कर्ज  के अतिरिक्त है ये घेषणा !

WATERSNew Delhi:सार्वजनिक क्षेत्र के राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) ने अगले 3 साल में किसानों को सिंचाई सुविधाओं में सुधार के लिए 30,000 करोड़ रुपये का कर्ज उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा है। नाबार्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा कि कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र पर ध्यान देने वाला संस्थान इस वर्ष अब तक 1000 करोड़ रुपये की पहले ही मंजूरी दे चुका है। यह वित्त पोषण सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाई) के तहत अगले 5 साल में किसानों को दिए जाने वाले 50,000 करोड़ रुपये के कर्ज की हाल में की गई घोषणा के अतिरिक्त होगा।

nabard

नाबार्ड के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक हर्ष कुमार भानवाला ने कहा, ‘हमने अगले 3 साल में किसानों को सिंचाई सुविधाओं के लिए 30,000 करोड़ रुपये उपलब्ध कराने का निर्णय किया है। इस साल हमारी 10,000 करोड़ रुपये उपलब्ध कराने की योजना है और मुझे आपको सूचित करते हुए खुशी है कि हम अब तक 1000 करोड़ रुपये आवंटित कर चुके हैं।’ उन्होंने कहा कि केवल क्षमता निर्माण के बजाए हम सिंचाई कुशलता सुधारने में मदद पर ध्यान दे रहे हैं। भानवाला ने कहा, ‘बैंक को ग्रामीण स्तर पर जलवायु परिवर्तन के लिए राष्ट्रीय क्रियान्वयन एजेंसी के रूप में ग्रीन क्लाइमेट फंड (जीसीएफ) से मान्यता मिली है।’

                                                  Vaidambh Media